खबर का असर- CM की सभा में रेंग रेंग कर आया मांझी के आयुष्मान कार्ड का मामला संज्ञान में- Shivpuri News

शिवपुरी।
शिवपुरी समाचार डॉट कॉम की खबर का एक बार फिर असर हुआ है। भोपाल समाचार शिवपुरी टीवी का वीडियो वायरल होने के बाद मानव अधिकार आयोग ने पिछोर के बृजेश मांझी का मामला संज्ञान में ले लिया है।
बीते 16 दिसंबर को शिवपुरी के पोला ग्राउंड में आयोजित मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सभा के दौरान पिछोर विधानसभा का रहने वाला एक युवक रेंग-रेंग कर अपनी गुहार लेकर आया था। 

अधिकारियों ने ना तो उसे मुख्यमंत्री के पास तक पहुंचने दिया और ना ही उसका आवेदन मुख्यमंत्री तक पहुंचाया। उल्टा पुलिस अधिकारियों को भेजकर उसे चुप करा दिया गया। शिवपुरी समाचार, बृजेश की आवाज बना।

मानव अधिकार आयोग ने इस मामले में जवाब मांगा है कि ब्रजेश मांझी को आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए विभिन्न सरकारी दफ्तरों में चक्कर लगाने के बावजूद भी उसका आयुष्मान कार्ड न बन सका हैं। वही मप्र मानव अधिकार आयोग ने जिले के पोहरी उप स्वास्थ्य केन्द्र में हो रहे शिविर में नसबंदी कराने गई एक महिला की नसबंदी के बाद हालत बिगड़ने और अंततः उसकी मौत हो जाने के मामले में संज्ञान लिया है।

जानकारी के अनुसार कौशल्या पत्नी सुमरन आदिवासी बीते रविवार को पोहरी में हो रहे शिविर में नसबंदी कराने आयी। सर्जन डा, पीके खरे ने उसकी नसबंदी की। आपरेशन के बाद उसे बाहर पलंग पर लिटा दिया। वहां कौशल्या दर्द से चिल्लाती रही, पर उसे देखने कोई नहीं आया। इसके बाद उसे जिला अस्पताल शिवपुरी रैफर कर दिया। वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मामले में आयोग ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, शिवपुरी से प्रकरण की जांच कराकर की गई कार्रवाई का एक माह में प्रतिवेदन तलब किया है। आयोग ने यह भी कहा है कि नसबंदी के बाद महिला की मृत्यु पर उसके परिजनों को राज्य शासन से देय मुआवजा क्षतिपूर्ति राशि प्रदाय के संबंध में प्रतिवेदन में स्पष्ट टीप अंकित करें।