सास ने घर से भगाया, पत्नी ने कहा कूदकर मर जाओ, सिंध में कूद गया पति- Shivpuri News

शिवपुरी।
अमोला सिंध नदी में बुधवार को कोलारस बरखेड़ा के रहने वाले एक युवक मोहर सिंह आदिवासी ने छलांग लगा दी। हालांकि मौके पर मौजूद SDRF की टीम ने उसे डूबते देख लिया और उसे समय रहते पानी से बाहर निकाल लिया। जिससे उसकी जान बच गई। यह सब उसने पत्नी से झगड़े के बाद सास ने उसे डूबकर मर जाने का ताना दिया। इस कारण उसने सिंध नदी में छलांग लगा दी।

कोलारस के बेरखेड़ी का रहने वाला मोहर सिंह आदिवासी अपनी ससुराल सुरवाया में स्थित नया गांव अपनी पत्नी को लेने आया था। जहां उसकी पत्नी दशहरा मनाने के बाद घर आने की बात कह रही थी। इसी बात पर उसका पत्नी से विवाद हो गया। इसके बाद वह शराब पीने चला गया और शराब पीकर जब वह घर आया तो उसने फिर पत्नी से झगड़ा किया।

यह देख उसकी सास ने उसे ससुराल से भगा दिया और उससे कहा कि कहीं डूब कर मर जाओ। यह बात उसको इनती चुभ गई कि उसने सिंध नदी में कूदकर अपनी जान देने की सोच ली और वह शाम के समय अमोला सिंध नदी पहुंच गया और उसने नदी में छलांग लगा दी।

गनीमत यह रही कि उस समय माता विसर्जन को लेकर भीड़ भाड़ थी और एसडीआरएफ टीम वहां मौजूद थी। जिसमें तैनात प्लाटून कमांडर मनीष श्रीवास्तव ने उसे छलांग लगाते देख लिया और तुरंत ही प्लाटून कमांडर बिना देर किए ही नदी में कूंद गए और डूबते मोहन सिंह को बचा लिया।

इसके बाद एसडीआरएफ की टीम ने नदी में वोट उतारकर दोनों को बाहर निकाला। इस दौरान जब एसडीआरएफ और पुलिस की टीम ने उससे पूछताछ की तो उसने बताया कि उसकी सास उसे कुछ नहीं समझती और सास और उसकी पत्नी दोनों चाहती हैं कि वह मर जाए। इसलिए वह मरने के लिए नदी में कूंदा था।