Shivpuri News- विवेकानंद कॉलोनी वाले सोनू दीक्षित सुसाइड मामले में होमगार्ड सैनिक सहित 5 के खिलाफ FIR

शिवपुरी
। सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र में आने वाली कॉलोनी विवेकानंद कॉलोनी में 31 अगस्त की देर शाम 35 वर्षीय बस कंडक्टर ने सोनू दीक्षित पुत्र सुरेश दीक्षित देर शाम ने जहर का सेवन कर लिया था। जिसकी मौत हो गई थी। कोतवाली पुलिस ने जांच की सोनू की मौत साहूकारों के तगादे भरे फोन थे,जिसका प्रेशर सोनू नहीं झेल सका और मौत को गले लगा लिया। इस मामले में पुलिस ने होमगार्ड सैनिक सहित पर 5 पर मामला दर्ज कर लिया हैं।

जैसा कि विदित है कि 31 अगस्त की रात को घर पर सोनू दीक्षित को एकाएक उल्टियां होने लगी बिगड़ती तबीयत को देख परिजन उसे शहर के निजी अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने परिजनों को बताया कि सोनू ने किसी जहरीले पदार्थ का सेवन किया है, उसके बाद सोनू दीक्षित को परिजन शिवपुरी के मेडिकल कॉलेज ले गए जहां से उसे ग्वालियर रेफर कर दिया गया ग्वालियर में ही रात करीब 12 बजे सोनू दीक्षित ने दम तोड़ दिया।

सूदखोरों के आते थे फोन मौटे ब्याज के चलते कर्जे में डूबा

सोनू दीक्षित बस पर कंडक्टर का काम करता था इसी दौरान उसने अपने इन्हीं कामों को पूरा करने के लिए सूदखोरों से 10% से भी ज्यादा ब्याज पर कुछ पैसे उधार लिए थे जिसके बाद सोनू दीक्षित पर लगातार फोन पर ब्याज सहित पैसों को लौटाने का दबाव सूदखोरों के द्वारा बनाया जा रहा था।

कोतवाली टीआई सुनील खेमरिया ने बताया कि बस कंडक्टर लवकुश उर्फ सोनू दीक्षित उम्र 35 वर्ष निवासी विवेकानंद कॉलोनी शिवपुरी ने 31 अगस्त को जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। जिसके बाद मर्ग कायम कर जांच प्रारंभ की।

जांच के दौरान पिता सुरेश कुमार दीक्षित, भाई देवेंद्र कुमार दीक्षित,पत्नी सुनीता दीक्षित एवं चचेरे भाई अजय कुमार दीक्षित ने बयान दिए। परिजनों ने बताया कि शिवपुरी के होमगार्ड सैनिक संजय शर्मा, भूपेन्द्र बाथम, पंकज गुप्ता एवं शम्मी और इंदौर निवासी सकूर खान से लव कुश ने उधार रुपए लिए थे।

उक्त लोग बार-बार रुपए मांग रहे थे। रुपए की व्यवस्था नहीं कर पाने के कारण बार.बार प्रताड़ित कर रहे थे। पुलिस ने मृतक के मोबाइल की सीडीआर निकलवाई तो कई बार बातचीत सामने आई। पुलिस ने पांचों लोगों के खिलाफ धारा 306ए 34 भादवि के तहत केस दर्ज कर मामला विवेचना में ले लिया है।