Shivpuri News- दिनारा के प्राइवेट स्कूल संचालक के खिलाफ छेड़छाड़ और पॉस्को एक्ट का मामला दर्ज

शिवपुरी
। दिनारा कस्बे में एक निजी स्कूल के संचालक पर स्कूल में पढ़ने वाली छात्रा की शिकायत पर पुलिस ने छेड़छाड़ सहित पास्को एक्ट के तहत प्रकरण कायम किया है। पीडिता ने मामते की शिकायत चाइल्ड लाइन को दर्ज कराई थी। चाइल्ड लाइन द्वारा मामले की जांच करवाने के बाद पूरा मामला बाल कल्याण समिती के समक्ष प्रस्तुत किया था। बाल कल्याण समिती ने मामले में एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश जारी किए थे।

जानकारी के अनुसार दिनारा में नवीन अकादमी नाम से स्कूल संचालित करने वाले सुरेंद्र सिंह वलेचा निवासी पकौडिया महादेव मोहल्ला दतिया अपने स्कूल में पढ़ने वाली छात्राओं को न सिर्फ बुरी नियत से देखते थे, बल्कि उनके साथ अश्लील हरकत करते हुए उन्हें बेड टच भी करते थे। स्कूल की संचालक की हरकत से लगातार परेशान हो चुकी कुछ छात्राओं ने मामले की जानकारी अपने परिजनों को दी। इसके बाद कुछ लोगों ने सामूहिक रूप से मामले की शिकायत चाइल्ड लाइन में दर्ज करवाई। 2 जुलाई को चाइल्ड लाइन को शिकायत प्राप्त होने के उपरांत 4 जुलाई को चाइल्ड लाइन ने दिनारा विजिट की और पीड़ित छात्राओं से बात करने के बाद मामले की रिपोर्ट बाल कल्याण समिती के समक्ष प्रस्तुत की। 

बाल कल्याण समिती ने जांच रिपोर्ट का अवलोकन करने के उपरांत पुलिस को मामले में स्कूल संचालक के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के निर्देश जारी किए। उक्त निर्देशों के क्रम में दिनारा थाना प्रभारी संतोष भार्गव ने आरोपित के खिलाफ छेड़छाड़ सहित पास्को एक्ट की धाराओं में प्रकरण दर्ज कर लिया है। 

देर से आने वाली छात्राओं को बनाता था टारगेट
चाइल्ड लाइन की टीम ने जब छात्राओं से बात की तो उन्होंने बताया कि स्कूल संचालक सुरेंद्र सरदार अधिकतर ऐसी छात्राओं को टारगेट करता था जिन्हें स्कूल पहुंचने में देर हो जाती थी। वह ऐसी छात्राओ को अपने केबिन में बुलाकर गलत नीयत से देखता था और गलत जगह पर हाथ लगाकर टच करता था। इसके अलावा स्कूल संचालक अपने वाट्सएप स्टेटस पर अश्लील फिल्में भी डालता था। 

इन फिल्मों को डालने के बाद वाट्सएप स्टेटस पर इस तरह की सेटिंग की जाती थी कि वह कुछ छात्राओं को तो दिखती थी और कुछ को नहीं दिखती थी। इसके अलावा स्कूल में ही सबसे ऊपर स्कूल संचालक ने एक व्यक्तिगत कमरा भी बना रखा है। उक्त कमरे में उसने ऐश-ओ-आराम के सारे संसाधन भी जुटा रखे थे। कई बार वह कुछ लोगों को वहां भी ले जाता था।

इनका कहना है
-हमें स्कूल संचालक के खिलाफ शिकायत प्राप्त हुई थी। शिकायत की जांच करने के लिए हमारी टीम ने दिनारा विजिट की थी। इस विजिट के दौरान पीड़ितों द्वारा जो बयान दर्ज कराए थे। उक्त बयानों के आधार पर हमने बाल कल्याण सामिती को अपनी रिपोर्ट अग्रिम कार्रवाई के लिए पेश कर दी थी।
अरूण सेन, संयोजक चाइल्ड लाइन