नपाध्यक्ष के साथ समक्ष उपाध्यक्ष भी चुनना होगा, उपाध्यक्ष महिला होगी या पुरुष- Shivpuri News

शिवपुरी। नगर पालिका शिवपुरी में स्पष्ट बहुमत के पश्चात अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों पदों पर भाजपा के प्रत्याशियों की ताजपोशी होना तय है और यदि पार्टी में अंतर विरोध नहीं हुआ तथा गुटबाजी की स्थिति नहीं बनी तो दोनों पदों पर भाजपा काबिज होगी।

अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों पदों का मामला भाजपा का आंतरिक मामला बन गया है, क्योंकि कांग्रेस ने भले ही 39 में से 10 वार्डों में सफलता प्राप्त की है। लेकिन कांग्रेस के अध्यक्ष पद के सभी प्रमुख दावेदार चुनाव हार गए और ऐसा कोई कांग्रेसी पार्षद नजर नहीं आ रहा, जिसे अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव लड़ाया जा सके।

नगर पालिका अध्यक्ष का पद सामान्य महिला के लिए आरक्षित है। 39 वार्डों में से 20 महिलाएं चुनाव जीतकर आई हैं। इनमें से कोई भी महिला अध्यक्ष बन सकती है। इन 20 में से भारतीय जनता पार्टी की महिला पार्षदों की संख्या 13 है। जबकि कांग्रेस की महिला पार्षद 5 वार्डों में विजयी हुईं हैं। दो महिला पार्षद निर्दलीय रूप से चुनाव जीतकर आई हैं।

कांग्रेस की महिला पार्षदों की बात करें तो वार्ड क्रमांक 6 से विजयी हुई मोनिका सीटू सडैया और वार्ड क्रमांक 34 से शशि आशीष शर्मा ही कांग्रेस में दावेदार के रूप में उभरकर सामने आ सकती हैं। जबकि भाजपा में अध्यक्ष पद के दावेदारों में दीप्ति भानू दुबे, रितु डिम्पल जैन, गायत्री शर्मा, सरोज व्यास, नीलम बघेल आदि प्रमुख दावेदार हैं। भाजपा में यदि खींचतान नहीं चली तो अध्यक्ष पद पर निर्विरोध निर्वाचन होने की संभावना अधिक है।

महिला अध्यक्ष बनने पर भाजपा के लिए उपाध्यक्ष का चयन आसान नहीं होगा। उपाध्यक्ष पद पर भाजपा को ऐसे पार्षद का चयन करना होगा, जो अध्यक्ष की जिम्मेदारी को बांट सके। ऐसे अनुभवी पार्षदों में भाजपा की ओर से सुधीर आर्य, रामसिंह यादव, ओमी जैन आदि के नाम सामने आ सकते हैं। लेकिन यदि भाजपा की सोच विचार यह है कि उपाध्यक्ष पद पर भी महिला का निर्वाचन हो तो नीलम बघेल, गायत्री शर्मा, की उम्मीदवारी सामने आ सकती है।