Shivpuri News- शिवपुरी से हत्या कर भागे युवक ने UP में संत की गोली मारकर हत्या, फिर स्वयं में गोली मार ली

शिवपुरी। मिर्जापुर उत्तर प्र देश के चुनार थाना क्षेत्र में स्थित सक्तेशगढ़ आश्रम में गुरुवार सुबह शिवपुरी से हत्या के मामले में फरार युवक ने एक संत को गोली मारकर खुद भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली। आरोपित पर शिवपुरी में भी हत्या सहित मारपीट के प्रकरण पंजीबद्ध हैं।

शिवपुरी की करैरा तहसील के ग्राम छितरी निवासी जितेंद्र सिंह पुत्र स्व सीताराम बैस उर्फ जीवन उर्फ जीतू बाबा ने सुबह करीब पौने आठ बजे 315 बोर के कट्टे से आश्रम में रहने वाले संत सेवादार आशीष बाबा को गोली मारी।

गोली आशीष बाबा की पीठ में लगी। इसके बाद जीतू बाबा ने खुद को भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली। पुलिस को जीत बाबा के पास से दो कट्टे मिले हैं। एक से उसने आशीष को, दूसरे से खुद में गोली मारी।

जितेंद्र ने करीब डेढ़ दशक पूर्व शिवपुरी के देहात थानांतर्गत पुलिस लाइन में एक युवक की हत्या कर दी थी। इस मामले में पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया व कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

ग्वालियर सेंट्रल जेल से वह दीवार फांद कर फरार हो गया था। सूत्र बताते हैं कि फरारी काटते हुए ही जितेंद्र सिंह बैस कुछ साल पहले सक्तेशगढ़ आश्रम पहुंच गया। जितेंद्र पहले तो आश्रम पर कई दिनों तक आता जाता रहा। इसके बाद अपनी सच्चाई छिपाकर वहां रहकर सेवा कार्य करने लगा। जब आश्रम को उसकी सच्चाई पता चली तो इसे आश्रम से भगा दिया गया था। बताया जा रहा है कि इसी क्रम में वह भक्तों की भीड़ में वेश बदलकर आश्रम पहुंचा था। जितेंद्र ने आज सुबह पहले तो आशीष बाबा को गोली मारी और फिर खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली।

पूर्व में भी बाबा पर फेंका था खौलता हुआ तेल
बताया जा रहा है कि जितेंद्र उर्फ जीतू बाबा शुरू से ही आपराधिक प्रवृति का युवक रहा है। शिवपुरी में हत्या का मामला दर्ज होने के अलावा उसके खिलाफ यहां के सीहोर थाना क्षेत्र में भी मारपीट आदि के प्रकरण पंजीबद्ध हुए है।


आश्रम पर रहते हुए भी उसने आशीष बाबा सहित आश्रम के एक अन्य भक्त डा विपिन सिंह पर भंडार गृह में गर्म तेल फेंक कर हत्या करने का प्रयास किया था। उक्त प्रकरण में भी बाबा पर हत्या के प्रयास का मामला चुनार थाने में दर्ज है। शिवपुरी के सीहोर थाना प्रभारी राघवेंद्र यादव के अनुसार घटना के बाद वहां की पुलिस जितेंद्र को तलाशने के लिए यहां आई थी, परंतु आरोपित अपने घर नहीं आया था।

पिता थे पुलिसकर्मी, हादसे में हुई थी मौत
कथित जीतू बाबा के पिता स्वण् सीताराम बैस मप्र पुलिस में आरक्षक के पद पर पदस्थ थे। कुछ साल पहले उनकी तेंदुआ थाना क्षेत्र में ग्राह डहरवारा के पास एक सड़क हादसे में मौत हो गई थी। उनकी जगह जीतू बाबा के बड़े भाई धर्मेन्द्र को पिता के स्थान पर अनुकंपा नियुक्ति मिल गई थी। जितेंद्र शिवपुरी में रहकर पढ़ता था उसी समय उसके हाथ से युवक की हत्या हो गई थी।