पटवारी को 1.80 लाख की रिश्वत नहीं दी तो सुनाज में 18 ग्रामीणों के सीमांकन अधर में - Shivpuri News

शिवपुरी। राजस्व विभाग में बिना घूस दिए शायद ही कोई काम हो पाता हो। पटवारियों को नियमानुसार काम करने के एवज में भी पहले रिश्वत लगती है, इसका एक और उदाहरण रन्नाौद के ग्राम सुनाज से सामने आया है। यहां पदस्थ पटवारी ने पिछले एक महीने से गांव के 18 किसानों में से एक किसान का भी सीमांकन नहीं किया है, क्योंकि किसान पटवारी द्वारा मांगी जा रही रिश्वत देने में अक्षम हैं।ग्रामीणों ने मंगलवार को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंप मामले की शिकायत दर्ज कराई है। ग्रामीणों का कहना है कि अगर अब भी सुनवाई नहीं हुई तो उन्हें धरना देने पर मजबूर होना पड़ेगा।

जानकारी के अनुसार ग्राम सुनाज के करीब 18 ग्रामीणों ने एक से दो माह पहले अपनी जमीनों के सीमांकन करवाने के लिए आवेदन दिए थे। निर्धारित समय सीमा निकलने के बाद जब ग्रामीणों के अनुसार जब उन्होंने पटवारी से सीमांकन के लिए कहा तो पटवारी ने एक सीमांकन के एवज में 10 हजार रुपये की रिश्वत मांगी। वह पटवारी को रिश्वत देने में अक्षम रहे, जिसके चलते पटवारी ने उनका सीमांकन नहीं किया।

वह अब आज-कल करके सीमांकन में टाल-मटोल कर रहा है। यही वजह है कि वह अपनी जमीनों तक को नहीं जोत पा रहे हैं। जिन ग्रामीणों के सीमांकन नहीं नहीं किए गए हैं उनमें घनश्याम आदिवासी, सावदी पुत्र फोदा, गुलाबबाई पत्नि सीताराम पाल निवासी सुनाज, परसादी पुत्र मिश्रा, सहित कई गामीण शामिल हैं। हालांकि इस मामले में पटवारी का कहना है कि वह पिछले 15 दिन से बीमार है और उसने तहसीलदार को इस संबंध में अवगत करा दिया है।