चाइल्डलाइन वॉलिंटियर्स मीटिंग में बाल कल्याण समिति अध्यक्ष डॉ सुषमा पांडे ने दिए सुझाव - Shivpuri News

शिवपुरी।
चाइल्ड लाइन शिवपुरी द्वारा चाइल्ड लाइन वॉलेंटर मीटिंग कार्यक्रम आयोजित किया गया। जानकारी देते हुए नोडल चाइल्डलाइन सिटी समन्वयक सौरभ भार्गव ने बताया कि चाइल्डलाइन शिवपुरी द्वारा वॉलिंटियर ओरियंटेशन प्रोग्राम का आयोजन किया गया जिसमें शिवपुरी के चाइल्ड लाइन वॉलिंटियर्स ने भागीदारी की जिसमें चाइल्ड लाइन वॉलिंटियर्स को बाल श्रम अधिनियम 1986, धूम्रपान नशा के दुष्परिणाम, किशोर न्याय अधिनियम 2015, पोक्सो एक्ट 2012 की जानकारी से अवगत कराया।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि शिवपुरी बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष डॉ सुषमा पांडे थी, कार्यक्रम की अध्यक्षता नोडल चाइल्डलाइन रचना संस्था प्रोजेक्ट डायरेक्टर संदेश बंसल ने की कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष डॉ सुषमा पांडे जी ने स्वयंसेवकों से संवाद करते हुए कहा कि बच्चे अपने अधिकारों के साथ-साथ अपने कर्तव्यों को भी जाने एवं किशोर न्याय से भी परिचित हो ओर इस ओर जागरूकता की आवश्यकता है जिसे चाइल्ड लाइन वॉलेंटर पूरा कर सकते है वे अपने क्षेत्र में इस ओर जागरूकता लाने का कार्य करे, साथ ही सभी उपस्थित स्वंयसेवक से अध्यक्ष महोदय ने आह्वान किया कि वे अपने अधिकारों के साथ-साथ अपने कर्तव्यों का भी निर्वहन करें एवं देश की तरक्की में अपना योगदान अवश्य दें एव शिवपुरी जिले को बाल मित्र (चाइल्ड फ्रेंडली ) जिला बनाने की ओर अग्रसर हो।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे संदेश बंसल प्रोजेक्ट डाइरेक्टर नोडल चाइल्ड लाइन रचना संस्था ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा हर बच्चों के अपने चार अधिकार प्राप्त हैं उन्हें उनके बारे में जानकारी होना चाहिए उन्हें अपने अधिकारों के बारे में जानकारी होगी तभी वह अपने उन अधिकारों का प्रयोग भी कर सकेंगे और इन अधिकारों के बारे में जानकारी देना चाइल्ड लाइन वालंटियर का काम है चाइल्ड लाइन के वॉलिंटियर धरातल पर रहकर बाल अधिकारों को संरक्षित करने का कार्य करें जब भी वह देखें बच्चे का अगर पढ़ाई में मन नहीं लग रहा है तो यह इस बात का संकेत है कि वह कहीं ना कहीं मानसिक तनाव में है पढ़ाई छूटने से बच्चों के सामने अनेकों जोखिम बढ़ जाते हैं बच्चों को मजदूरी भीख मांगने या कचरा कबाड़ा बीनने में भी लगाया जा सकता है।

उनका कम उम्र में विवाह किया जा सकता है पढ़ाई से दूर रहने वाले बच्चे गलत लोगों के साथ बैठेंगे तो नशे की आपराधिक गतिविधियों से भी जुड़ सकते हैं ऐसी स्थिति में उन्हें उचित परामर्श एवं भावनात्मक सहयोग की बहुत जरूरत होती है यदि बच्चे ऐसी स्थिति में हैं तो चाइल्डलाइन1098 को सूचित करें ताकि समय पर बच्चों को परामर्शी सेवाएं दी जा सकें कार्यक्रम में सेंटर समन्वयक कोलैब चाइल्ड लाइन अरुण कुमार सेन ने स्वयंसेवकों को चाइल्ड लाइन की कार्यप्रणाली से अवगत कराया साथ ही नोडल चाइल्डलाइन सिटी समन्वयक सौरभ भार्गव द्वारा बाल श्रम बाल विवाह नशे की लत जैसे कुरीतियों से कैसे हम आज की युवा पीढ़ी को बचा सकते हैं और हमारे एक छोटे से फोन कॉल से कैसे इन बच्चों की जिंदगी बदल सकती है इस पर प्रकाश डाला विशेष किशोर पुलिस इकाई से प्रधान आरक्षक हर्ष झा ने एस जे पी यू की कार्यप्रणाली से सभी को अवगत कराया कार्यक्रम में बाल शिक्षा निकेतन छिब्बर स्कूल के एनएसएस स्वयंसेवकों द्वारा ग्रुप डिस्कशन के माध्यम से बाल श्रम ,बाल विवाह, सुरक्षित असुरक्षित स्पर्श, और चाइल्ड लाइन 1098 पर विस्तार से पोस्टर बनाकर कानूनी जानकारी के साथ समस्त स्वयंसेवकों के साथ साझा किए कार्यक्रम के आयोजन में संकल्प समाज सेवी संस्था, कॉलेब चाइल्डलाइन शिवपुरी, पीयूष जैन, शिवम मित्तल का सहयोग रहा।

उक्त कार्यक्रम में एसजेपीयू से प्रधान आरक्षक संजय शिवहरे हर्ष झा चाइल्डलाइन वॉलिंटियर के साथ-साथ चाइल्ड लाइन काउंसलर सृष्टि ओझा टीम मेंबर हिम्मत सिंह, संगीता चह्वाण, अबसार बानो ,विनोद परिहार सुल्तान सिंह सहित उपस्थित थे।