केवल 11 देशों से आने वाले हर यात्री का टेस्ट कर रहे है, इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर रोक नही: सिंधिया- Shivpuri News

शिवपुरी। नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया रविवार को भी शिवपुरी में थे। सुबह अशोकनगर निकलने पूर्व मीडिया से हुई चर्चा में उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने 28 व 29 नवंबर को जो नियम बनाए उसके तहत कार्रवाई चल रही है। 11 देश हैं जिनसे आने वाले हर यात्री का कोरोना टेस्ट होने के बाद ही उन्हें एयरपोर्ट से निकलने दिया जा रहा है। अभी यही प्रक्रिया चल रही है।

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए जब उनसे एयरपोर्ट बंद करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि फिलहाल जो नियम बनाए हैं उनके तहत ही कार्रवाई हो रही है। एक तरह उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि फिलहाल इंटरनेशनल फ्लाइट्स बंद नहीं होगीं। बॉम्बे कोठी पर सिंधिया ने लोगों की समस्याएं भी सुनीं।

वहीं स्वास्थ्य चिकित्सा मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि प्रदेश में स्थिती नियंत्रण में है। हालांकि महानगरों में पिछले कुछ दिनों में संख्या बढ़ी है। कोरोना अभी गया नहीं है और सावधानी बरतना है। प्रदेश सरकार टीकाकरण युद्धसतर पर कर रही है। लोगों को ढूंढ-ढूंढकर वैक्सीन लगाई जा रही है। अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट तैयार किए गए हैं। 1 तारीख से जितने ऑक्सीजन प्लांट तैयार हो गए थे उनका ट्रायल शुरू कर दिया गया है। टेस्टिंग भी लगातार चल रही है और अब उसकी संख्या बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।

एक बार फिर पैर पसारते जा रहे कोरोना संक्रमण पर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने शिवपुरी में कहा है कि अब तक मप्र में स्थिति कंट्रोल में है, लेकिन पिछले एक हफ्ते में भोपाल, इंदौर जैसे महानगरों में कोरोना के केस बढ़े हैं। इसी के चलते हमें बेहद सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि मास्क लगा कर रखें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

ऑक्सीजन प्लांट और बेड तैयार

मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कोरोना की तैयारियों पर अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि हमने कोरोना से लड़ने के लिए ऑक्सीजन प्लांट तैयार करवा लिए हैं। 1 दिसंबर से उनकी टेस्टिंग भी कराई जा रही है। उनके अनुसार थोड़े बहुत जो प्लांट तैयार नहीं हैं उन्हें भी जल्द तैयार करवा लिया जाएगा।

जरूरत पड़ी तो खोलेंगे और नई लैब

मप्र सरकार द्वारा कोरोना टेस्ट की संख्या बढ़ाने की बात कही जा रही है, लेकिन प्रदेश में टेस्ट्स की रिपोर्टिंग के लिए लैब कम होने के प्रश्न पर स्वास्थ्य मंत्री का कहना था कि हमारे मेडीकल कॉलेज लगातार टेस्ट रिपोर्ट देने का प्रयास कर रहे हैं। हम टेस्ट बढ़ा रहे हैं, अगर इन टेस्ट की रिपोर्ट्स के लिए और लैब की जरूरत पड़ी तो लैब भी बढ़ाई जाएंगी।