गांधी पार्क होगा अयोध्या के रूप में परिवर्तित, पंचकल्याणक व गजरथ महोत्सव की तैयारियां शुरू- Shivpuri News

शिवपुरी। पुरानी शिवपुरी में सबसे प्राचीन श्री पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर के जीर्णोद्धार पश्चात विशाल जिनबिम्ब पंचकल्याणक प्रतिष्ठा एवं गजरथ महोत्सव का आयोजन 05 दिसबंर से 10 दिसबंर तक होने जा रहा है। यहां स्थित भगवान पार्श्वनाथ की प्राचीन प्रतिमा को पुनः नवीन वेदिका पर विराजमान किया जाएगा वहीं भगवान आदिनाथ, मुनिसुव्रत नाथ, नेमिनाथ भगवान, भगवान भरत के साथ अन्य नवीन प्रतिमाएं भी विराजमान की जाएंगी।

पंचकल्याणक के दौरान बाद सभी जिन प्रतिमाओं पर सूरी मंत्र दिया जाएगा। इससे यह प्रतिमाएं प्रतिष्ठित होकर पूज्यनीय हो जाएंगी। पाषाण से भगवान बनने के अनूठे कार्यक्रम को लेकर जैन समाज में खासा उत्साह है। इसकी सभी तैयारियां प्रारम्भ हो गई हैं। उक्त मंगल आयोजन आचार्य विद्यासागर के प्रिय शिष्य पूज्य मुनि अभयसागर, मुनि प्रभातसागर एवं मुनि निरीहसागर के मंगल सानिध्य में प्रतिष्ठाचार्य बा. ब्र. प्रदीप भैया 'सुयश' के निर्देशन में होगा।

स्थानीय गांधी पार्क मैदान में विशाल पांडाल होगा तैयार

पंचकल्याण महोत्सव के सदस्यों ने बताया कि महोत्सव की सभी तैयारियाँ प्रारम्भ हो गई हैं, जिसके लिए स्थानीय गांधी पार्क मैदान को भव्य अयोध्या नगरी का स्वरूप प्रदान किया जाएगा। उम्मीद है कि इस कार्यक्रम में प्रतिदिन लगभग दस हजार समाज बंधु शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि विशाल डोम के निर्माण के साथ सामूहिक भोजन शाला का अस्थायी निर्माण भी कराया जाएगा। जिसमें हजारों की संख्या में श्रद्घालु एकसाथ कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं। साथ ही यहां आने वाले समाज बंधुओं की उचित व्यवस्था भी की जा रही है।

इस तरह होंगे कार्यक्रम

उंन्होने बताया कि प्रदीप भैया सुयश के निर्देशन में विधिविधान से कार्यक्रम होंगे। जिसमें सर्वप्रथम सिरोंज से आ रहे मुनि संघ की विशाल मंगल आगवानी की जाएगी। तत्पश्चात पंचकल्याणक के पात्रों का चयन होगा। कार्यक्रम के दौरान विशाल घटयात्रा जुलूस, गजरथ (ऐरावत हाथी) बग्घी घोड़े बाजे-गाजे के साथ निकाली जाएगी।

ततपश्चात आगामी दिनों में गर्भ कल्याणक, जन्म, तप, ज्ञान एवं मोक्ष कल्याणक के दिन विशाल गजरथ रथयात्रा निकाली जाएगी। आयोजन समिति ने बताया कि अभी पूज्य मुनि संघ का मंगल चातुर्मास सिरोंज नगर में चल रहा है, आगामी 14 नवंबर को वहां पिच्छिका परिवर्तन कार्यक्रम है, उसके उपरांत पूज्य मुनि संघ का मंगल विहार शिवपूरी के लिए होगा। उंन्होने समाज के सभी संगठनों, महिलाओं, पुरुषों से समस्त कार्यक्रमों में सहयोग करने, एवं बढ़चढ़कर भाग लेने की अपील की है।