आचार्य श्री विजय धर्म सुरि महाराज ही की जन्म शताब्दी वर्ष में शिवपुरी में जैन संत कुलचंद्र महाराज करेंगे चार्तुमास- Shivpuri News

शिवपुरी। परमपूज्य आचार्य श्री कुलचंद्र सुरिश्वर जी महाराज साहब आदि श्रमण-श्रमणी वृंत का आगामी 2022 का चार्तुमास शिवपुरी में सम्पन्न होगा। शिवपुरी में चार्तुमास करने की आचार्य श्री कुलचंद्र सुरिश्वर जी महाराज साहब ने स्वीकृति प्रदान कर दी है। इसके लिए जैन समाज के एक प्रतिनिधि मंडल ने दिल्ली पहुंचकर उनसे शिवपुरी में चार्तुमास करने की प्रार्थना की।

शिवपुरी जैन समाज में आचार्य श्री कुलचंद्र सुरिश्वर जी महाराज साहब के 2022 के चार्तुमास के लिए आपार उत्साह था। इसी कारण जैन समाज के प्रतिनिधि मंडल ने दिल्ली पहुंचकर महाराज श्री से चार्तुमास की विनती की। इस प्रतिनिधि मंडल में जैन श्वेताम्बर मूर्ति पूजक समाज के अध्यक्ष दशरथमल सांखला, स्थानकवासी जैन समाज के अध्यक्ष राजेश कोचेटा, प्रवीण लिगा, इंदर वुरड़, डॉ. दीपक सांखला, दीपेश सांखला, विजय पारख, संजय सकलेचा, यशवंत सांड, मुकेश भांडावत, दीपेश सकलेचा, दीपेश लिगा, संजय जैन, वीरेंद्र सांड, बल्लव लिगा, श्रीमति सुनीता भांडावत, श्रीमति मंजू सांखला, श्रीमति मंजू सांड सहित श्रावक श्रविका शामिल थे। इससे पूर्व दिल्ली, गुजराती कुंथूनाथ ट्रस्ट सोसायटी के तत्वाधान में चार्तुमास का समापन पर्व मनाया गया।

जहां श्री संघ के अनेक श्रावकों ने अपने हृदय उदगार व्यक्त किए और आचार्य श्री का गुणगान किया। इसके बाद शिवपुरी से पधारे जैन समाज ने आचार्य श्री कुलचंद्र श्री महाराज साहब से शिवपुरी में आगामी चार्तुमास करने की विनती की। जिस पर आचार्य श्री ने चार्तुमास की विनती को स्वीकार किया गया। इसके बाद आगामी चार्तुमास की जय-जयकार हुई।

शिवपुरी से आचार्य श्री का है भावनात्मक लगाव

आचार्य श्री कुलचंद्र सुरिश्वर जी महाराज साहब का शिवपुरी से भावनात्मक और आत्मीय लगाव है। शिवपुरी में बीटीपी की स्थापना करने वाले प्रसिद्ध जैनाचार्य श्री विजय धर्म सुरि जी महाराज साहब से आचार्य श्री के पितृ गुरू हैं। आचार्य श्री विजय धर्म सुरिश्वर जी ने शिवपुरी में चार्तुमास कर वीर तत्व प्रकाशन मंडल की स्थापना की थी और उस समय इस गुरूकुल की देशभर में महिमा थी। जिसमें जैन धर्म और दर्शन में रूचि रखने वाले विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करते थे। संयोग से वर्ष 2022 में आचार्य श्री विजय धर्म सुरि जी महाराज साहब की जन्म शताब्दी भी है और यह भी सुखद संयोग है कि उन्हीं के सम्प्रादाय के आचार्य श्री कुलचंद्र सुरिश्वर जी महाराज साहब का शिवपुरी में चार्तुमास सम्पन्न होने जा रहा है। इससे शताब्दी महोत्सव की निश्चित रूप से शोभा बढ़ेगी।