PDS घोटाला: लाखों रूपए का राशन खा गए माफिया, शील्ड दुकान को लेन देन कर खोल दिया- Shivpuri News

शिवपुरी। फूड इंस्पेक्टर के संरक्षण में रसदमाफिया गरीबों के हक के निवालों को बाजारों में ऊचे दामों में खफा रहे हैं। ऐसा इसलिए कहना पड़ रहा है की खनियाधाना तहसील की पीडीएस दुकान अहारवानपुर पर इस समय गरीब अपने हक का निवाला पाने के लिए मोहताज है और रसदमाफिया माला-माल। जनता शिकवा-शिकायतों में उलझकर अधिकारियों से राशन दिलाए जाने की गुहार लगा रही है और रसदमाफिया यहां के फूड इंस्पेक्टर के संरक्षण में गरीबों के हक के राशन को ऊचें दामों में खनियाधाना के व्यापारियों को खफा रहे हैं।

यह मामले पीडीएस की पहचान को कलंकित करने वाले हैं,शासकीय उचित मूल्य की दुकान ग्राम पंचायत अहारवानपुर में राशन वितरण को समिति प्रबंधक और सेल्समेन ने बिजनेस करने का रास्ता निकाल लिया है। वे गरीबों और मजदूरों में बांटने आए राशन को बाज़ारों में बेच रहे है ओर फ़ूड अधिकारी इन्हें संरक्षण दे रहे हैं शासकीय उचित मूल्य की दुकान ग्राम पंचायत अहारवानपुर कोरोना काल के दौरान ओर वर्तमान में गरीब और अन्य पात्र परिवारों को निःशुल्क राशन वितरण में व्यापक भ्रष्टाचार हुआ है आपको बता दे कि खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत इस वर्ष अप्रैल , मई और जून तथा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में माह मई और जून का राशन दिया जाना था ।

इन पांच माहों के राशन वितरण में ग्राम अहारबानपुर में जमकर घोटाला किया गया है । इस संपूर्ण भ्रष्टाचार में फूड इंस्पेक्टर सहित जिले के अधिकारियों ने भी अपनी अहम भूमिका निभाई है कुछ हितग्राहियों की ने कहा कि कोरोना की महामारी के दौरान जब प्रदेश में हजारों लोग प्रतिदिन संक्रमित हो रहे थे और सैकड़ों लोग दूसरी लहर में जान गवां रहे थे ।

उसी दरमियान ग्राम में सेल्समैन और समिति राशन माफिया भीषण आपदा में भ्रष्टाचार का अवसर ढूंढ रहा था ।जिले में अधिकारियों की कमजोर मॉनीटरिंग की वजह से ग्राम आहरवानपुर में गरीबों के अनाज में हेरफेर किया जा रहा है। केरोसीन और शक्कर,तो राशन दुकानों से पूरी तरह गायब हैं। पीला कार्ड होने पर भी उन्हे केरोसीन और शक्कर नहीं दिया जा रहा है। इसी तरह नि:शुल्क होने के बावजूद राशन के रुपए वसूले जा रहे हैं।

जिला प्रशासन और खाद्य विभाग सस्ते गले की राशन दुकानों पर हितग्राहियों को खाद्यान्न सहित शक्कर और कोरोसिन देने का दावा कर रहे हैं लेकिन मैदानी हकीकत एकदम अलग है।

फूड इंस्पेक्टर ने कालाबाजारी के चलते दुकान की शील्ड अब ले देकर खोली

राशन वितरण में गड़बड़ी और फर्जीवाड़ा पर फ़ूड प्रशासन ने कार्रवाई कर खनियाधाना में शासकीय उचित मूल्य की दुकान ग्राम पंचायत अहारवानपुर में डीलर ने राशन की कालाबाजारी अनियमितताओं से जुड़े शिकायतों के चलते दुकान को शील्ड किया गया था लेकिन फूड इंस्पेक्टर के द्वारा जिम्मेदार अधिकारियों से लेनदेन कर दुकान खुलबा ली इस भ्रष्टाचार की जड़े जिले के अधिकारियों से भी जुड़ी हुई है भ्रष्टाचार की जांच भ्रष्टाचार किया जा रहा है दुकान पर दुकान खोली गई है।

इनका कहना है
अगर फूड इंस्पेक्टर ने दुकान सील्ड कर खोली है अगर अब जांच से संतुष्ट नहीं है तो फिर एक बार नई टीम से जांच कराएंगे सभी लोगों के सही तरीके से बयान लेंगे
अक्षय सिंह,कलेक्टर, शिवपुरी

आप अपने एसओ को मामला बता दीजिए मैं तो फिलहाल जांच करा लूंगा अपने एसोओ से फिर क्या होगा बो बताऊंगा
विपिन पटेल, जिला फ़ूड अधिकारी जिला शिवपुरी।