शिवपुरी में सुस्त रहा किसानों का भारत बंद: मुठठी भर लोगों ने जुड़े व्यापारियों के, पुलिस और समर्थक के बीच नोकझोंक - Shivpuri News

शिवपुरी। केन्द्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि कानून को रद्द कराने की मांग को लेकर आज भारत बंद करने का ऐलान किया था, जो शिवपुरी में पूरी तरह फ्लोप हो गया। सुबह से ही दुकानें रोज की तरह खुली रहीं और आम लोगों की दिनचर्या पर भी कोई असर नहीं पड़ा। शिवपुरी में सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक बाजार बंद करने की योजना थी।

लेकिन बंद कराने वाले सुबह 11 बजे तक एकत्रित हो सके। जिनकी संख्या भी गिनी-चुनी थी और वह गुरूद्वारा से रैली निकालकर बंद कराने बाजार में निकल पड़े। इस दौरान बंद समर्थक लोग दुकानदारों से अपनी-अपनी दुकानें बंद करने के लिए हाथ जोड़कर विनती करते हुए देखे गए। लेकिन दुकानदारों ने उनकी अनदेखी कर अपनी दुकानें बंद करने से इंकार कर दिया।

शुरूआत में बंद समर्थकों ने दुकानदारों पर दुकान बंद करने का दबाव बनाया। लेकिन पुलिस ने उनके इन मंसूबों पर पानी फेर दिया। इस दौरान बंद समर्थकों और पुलिस के बीच नोंक झोंक भी हुई। बाद में पुलिस ने कार्रवाई की बात कहीं तो संगठन के सदस्यों के तेवर ढीले हो गए।

सुबह करीब 11 बजे संयुक्त किसान मजदूर एकता के सदस्य गुरूद्वारे पर एकत्रित हुए, जो संख्या में नगण्य थे। खासबात यह थी कि बंद का समर्थन करने वालों में किसान नदारत थे सिर्फ कुछ सिक्ख समुदाय के लोग ही मौजूद थे। जिन्होंने बंद का समर्थन करते हुए रैली गुरूद्वारे से शुरू की। इस दौरान रैली के आगे बढ़ते ही कुछ बंद समर्थकों ने एक दुकानदार पर जबरन दुकान बंद करने का दबाव बनाया।

जिसकी जानकारी रैली के पीछे चल रहे पुलिसकर्मियों को लगी तो वह मौके पर आए। इस दौरान पुलिस और बंद समर्थकों के बीच तीखी नोंकझोंक भी हुई। पुलिसकर्मियों ने उन्हें समझाया लेकिन इसका बंद समर्थकों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें फटकार लगा दी और उन्हें नसीहत दी कि अगर उन्होंने किसी भी दुकानदार से जबरन बंद कराने का प्रयास किया तो वह उन पर कड़ी कार्रवाई करेंगे।

पुलिस की इस तीखी प्रतिक्रिया के बाद वह लोग बगले झांकने लगे और तितर-बितर हो गए। बाद में बंद समर्थक हाथ जोड़ते हुए दुकानदारों से दुकान बंद करने की अपील करते रहे। लेकिन किसी भी दुकानदार ने अपनी दुकान बंद नहीं की। इस दौरान भारी पुलिस बल भी बंद समर्थकों के आगे और पीछे मौजूद था।

एसडीएम गणेश जयसवाल और एसडीओपी अजय भार्र्गव अपने निर्देशन में पूरी पुलिस टीम को आदेशित कर रहे थे और वह रैली के दौरान पूरे समय पूरे क्रियाकलापों पर नजर रखे हुए थे। उनके साथ देहात थाना टीआई संजय मिश्रा, फिजीकल टीआई कृपाल सिंह राठौर, यातायात प्रभारी रणवीर यादव भी पूरी स्थिति पर अपना फोकस बनाए हुए थे।