हाई रिस्क गर्भावस्था से कैसे बचे: गर्भवती म​हिला को यह मिलती हैं सरकारी सुविधाए, प्रशिक्षण कार्यक्रम- Shivpuri News

पोहरी। विकास संवाद समिति पोहरी द्वारा संचालित समुदाय आधारित कुपोषण प्रबंधन परियोजना के तहत हाई रिस्‍क गर्भवास्‍था पर फ्रन्‍ट लाईन वर्कर 25 सदस्यों ने भाग लिया। जिसमें ऑगनवाडी कार्यकर्ता आशा कार्यकर्ता ए एन एम और समुदाय में गठित कोर ग्रुप लीडरों का प्रशिक्षण का आयोजन किया गया

इसमें प्रशिक्षक के रूप में भोपाल विकास संवाद से श्रीमति आरती पाराशर जी, वरूण भार्गव तथा विकास संवाद पोहरी से अजय यादव रहे। कार्यक्रम की शुरूआत में सबसे पहले आपसी परिचय और एक बंदना के साथ सुरुआत की गई

इसी के साथ ही अजय यादव द्वारा आज के इस प्रशिक्षण के उद्देश्य को लेकर चर्चा की गई कि जिसमें देश व प्रदेश में महिलाओं में हीमोग्‍लोविन की कितनी कमी है यह हम सब जानते है और हमारे क्षेत्र में सहरिया गॉव ज्‍यादा है तो यहॉ पर तो और भी स्थिति खराब है इस स्थिति से कैसे निकला जाऐ इस पर आज यह प्रशिक्ष्‍ण रखा हैं।

हम सब मिलकर जो हाई रिस्क गर्भावस्था से कैसे बच सकते है इस पर सीखेंगे

इसके बाद विकास संवाद भोपाल से आरती पाराशर जी द्वारा बताया गया कि‍ हाईरिस्‍क गर्भवास्‍था के लिऐ हमारे क्षेत्र में हम सब मिलकर प्रयास करते है कि गर्भवास्‍था का पता चलते ही तुरन्‍त पंजीयन हो।

पंजीयन होने के बाद आंगनबाड़ी से मिलने वाली सुविधा मिले

जिसमें टेक होम राशन है पोषण की जानकारी पोषण के लिऐ हम अपने घर समुदाय में किस तरह अपना पोषण ले सकते है इस प्रकार से गर्भवास्‍था में उचित संयुक्‍त पोषण के लिऐ हम प्रयास करते हैं। इसी के साथ ही गर्भवास्‍था मे पंजीयन होने के बाद टी टी के दो टीके समय पर लगे और आयरन कैल्‍शियम की गोली मिले त‍था चार ए एन सी जॉचे समय पर मिले,

मातृवंदना योजना जननी सुरक्षा योजना मुख्‍य मंत्री श्रमिक सेवा योजना तथा प्रसव से पहले की तैयारी और प्रसव संस्‍थागत हो यह हम अपने क्षेत्र की महिलाओ के साथ मिलकर सुविधाऐ दिलवाने से सहयोग कर रहे है और करेगे

अरूण भार्गव जी द्वारा एम सी पी कार्ड पर प्रकाश डालते हुऐ बताया गया कि यह कार्ड हर गर्भवती महिला को पंजीयन के समय दिया जाता है इस कार्ड को कभी हम पढ कर भी नही देखते है कि क्‍या लिखा है इस कार्ड में यह कार्ड सरकार ने बड़े सोच समझ कर बनाया है इसमें बो हर सेवाऐ हर योजनाऐ लिखी गई है जो हर गर्भवती धात्री और बच्‍चो को मिलना चाहिऐं।

चाहे वो ए एन सी जॉच हो पी एन सी जॉच हो ग्रेह भेंट हो टीकाकरण हो आयरन की गोलियॉ हो चाहे बच्‍चों का टीकारण है बच्‍चो के पोषण और महिलाओ को मिलन बाली योजनाऐ कैसे मिलेगी इसके लिऐ कौन कौन से दस्‍तावेज की जरूरत होगी इस प्रकार से इस कार्ड को अपने क्षेत्र की महिलाओं को देने से पहले हमे यह बताना चाहिऐ और समुदाय और परिवार को भी इस कार्ड को पढना चाहिऐ जिससे की योजनाऐ और मिलने बाली सुविधाओ की जानकारी हो और उसका फायदा हम ले सके इस कार्यक्रम में संस्था के सुनील शर्मा रानी जाटव मधु नामदेव राजकुमार परिहार अरविंद यादव ने अपनी सक्रिय भूमिका निभाई।