कोरोना के बाद स्कूल तो खुले परंतु मिड डे मिल का कोई इंतजाम नहीं,भूख से बिलख रहे है बच्चे - Shivpuri News

शिवपुरी। एक तरफ तो कोरोना के बाद से हालात सामान्य होते ही शिवपुरी जिले में दो साल से बंद स्कूल कॉलेज फिर से पटरी पर आने लगे है। जिसके चलते अब मासूम स्कूल जाने लगे है। लेकिन सुबह 10:30 बजे स्कूल पहुंचने के बाद शाम तक रुकने वाले बच्चों के लिए मिड-डे मील की कोई व्यवस्था नहीं की गई है।

बच्चों के अभिभावक तो उनके साथ टिफिन भेज रहे हैं, लेकिन कई बच्चे ऐसे भी थे, जो मिड-डे मील की आस में बिना टिफिन के ही स्कूल आ रहे हैं। स्कूल में पढ़ रहे बच्चों के अभिभावकों ने बताया कि बच्चों का टिफिन बनाने के लिए उनके पास समय नहीं है, क्योंकि वही समय उनके काम पर जाने का भी होता है। परिजनों ने कहा कि उन्हें लगा था की पहले की तरह ही बच्चों को स्कूल में खाना मिलेगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अभिभावकों का कहना है कि अगर स्कूल में बच्चों को बुला रहे हैं तो उनके खाने की व्यवस्था भी की जानी चाहिए।

कोई भूखा रह रहा, तो कोई टिफिन शेयर

स्कूलों में बच्चों की स्थिती यह है कि जो बच्चे टिफिन नहीं लाए उनमें से कोई बच्चा तो अपने साथियों के साथ टिफिन शेयर कर रहा था तो कोई भूखा ही रह गया। ग्रामीण क्षेत्रों के कई स्कूल ऐसे हैं, जहां बच्चों की सोशल डिस्टेंस और मास्क की व्यवस्था को दरकिनार किया गया था।

स्कूल में पढ़ने वाले एक छात्र के परिजन से हमने टिफिन के संबंध में बात किया तो रामवती ने बताया कि हम सुबह से ही मजदूरी पर चले जाते हैं, अब बच्चों के टिफिन हम नहीं बना पाते। क्योंकि अगर हम टिफिन बनाने में लग गए तो हम काम पर जाने में लेट हो जाएंगे।

इनका कहना है
एमडीएम के बारे में शासन स्तर से कुछ स्पष्ट नहीं हुआ है। हम इस संबंध में भोपाल से मार्गदर्शन लेकर कोई न कोई व्यवस्था जल्द करेंगे।
एचपी वर्मा, सीईओ, जिला पंचायत शिवपुरी