गडरिया परिवार ने किया नाबालिग का अपहरण,10 दिन तक बलात्कार, पुलिस पर बयान पलटने के आरोप

शिवपुरी। खबर एसपी आफिस से आ रही है कि आज एसपी आफिस में एक पीडिता ने आवेदन दिया हैं कि उसका अपहरण कर बलात्कार किया गया हैं। पुलिस ने उसके बयान पलटे हैं। आरोपियो ने उसे जान से मारने की धमकी दी है। आवेदन से मांग की गई है कि आरोपियो के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए

मामला कोलारस थाना अंर्तगत आने वाले ग्राम राई लुहारपुरा का हैं जहां नाबालिग लड़की जिसकी उम्र 16 वर्ष है जिसको आरोपी रामबाबू पाल पुत्र हजरत पाल जो ग्राम राई लुहारपुरा थाना कोलारस अपने सहयोगी पिता हजरत पाल चाचा मंगल अशोक, मुकेश, कल्याण निवासी ग्राम राई थाना कोलारस एवं रिश्तेदार जीजा बंटी पाल निवासी लुधावली थाना देहात थाना पुरानी शिवपुरी एवं अन्य 2-3 सहयोगी के साथ बहला-फुसलाकर अपनी बातों में फंसा कर 15 सितंबर कि रात को नाबालिग का अपहरण कर अपने साथ ले गए।

जिसकी शिकायत परिवार ने संबंधित थाने में की। लेकिन नाबालिग का कोई पता नहीं चला। जिसके बाद 24 सितंबर को वन स्टाप सेंटर शिवपुरी से प्रार्थी को फोन कर नाबालिग के मिलने की सूचना दी गई तब जा कर प्रार्थी को अपनी बेटी मिली। मिलने पर उसकी स्थिती दयनीय थी और वह काफी डरी हुयी थी। जब मिलने के बाद परिवार जनों ने लडकी से पूछा तो उसने पूरी घटना परिवार वालों को बताई और बताया की आरोपियों ने शिकायत करने पर उसे व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी थी। इस कारण आरोपीयों के खिलाफ तत्काल कानूनी कार्रवाई करने की मांग की।

साथ ही लडकी के परिवार जनों ने बताया कि आरोपी धनबल से संपन्न होने के साथ ही राजनैतिक पहुंच वाले व्यक्ति हैं और संख्या बल मे अधिक हैं इसलिए हमारी कार्यवाही नहीं होने दे रहे हैं, कह रहे हैं कि रिपोर्ट करके हमारा क्या कर लोगे, कोई हमारा कुछ नही कर पायेगा क्योंकि पुलिस से तो हमारी अच्छी जान पहचान है। तुम्हे जो करना है सो कर लो और जहॉं जाना है वहां चले जाओ।

लड़की ने बताया गया कि पड़ोरा पर छोड़कर कोलारस थाने की पुलिस आती है और मुझे ले जाती है और मुझे ले जाती है वहीं पुलिस द्वारा बयान लिए गए लेकिन भाई को मारने की धमकी देकर गलत बयान लिए गए। कोर्ट में बयान होने से पहले कोलारस थाने में पदस्थ मंजुलता शर्मा और शिखा तिवारी ने कहा कि तूने जो बयान यहां दिए है वही बयान वहां देना। और साफ साफ मना कर दिया कि तू अपनी मेडिकल जांच नहीं करवाना, पर जैसे ही जांच हो गई तब महिला पुलिस ने कहा की तूने फसवा ही दिया।