लॉकडाउन का दंश: इंजीनियर की नौकरी कर चुके युवाओं ने स्वीकार की सुपरवाइजर और सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी - Shivpuri News

शिवपुरी। भारतीय सुरक्षा दस्ता परिषद नई दिल्ली एवं जिला पंचायत शिवपुरी व मध्यप्रदेश डे राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के सहयोग से शिक्षित बेरोजगार युवाओं को रोजगार प्रदान करने हेतु भर्ती कैम्प का आयोजन किया गया था। इस कैंप में जिले के शिक्षित और बेरोजगार युवको ने नौकरी के लिए आवेदन किया हैं,इस आवेदनो में इंजीनियर,कम्प्यूटर इंजीनियर और पोस्ट ग्रेजुएट युवाओ ने अपना आवेदन दिया।

इस कैंप में कक्षा 10 और 12वीं पास की योग्यता इन जॉब के लिए मांगी गई थी लेकिन यहां कंप्यूटर डिप्लोमा के साथ-साथ ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट और इंजीनियरिंग किए हुए सैकड़ों युवाओं ने सिर्फ इसलिए अपना रिज्यूम दिया ताकि वह किसी भी कीमत पर नौकरी हासिल कर सकें।

दरअसल सिक्योरिटी स्किल कम्युनिकेशन इंडिया लिमिटेड द्वारा सिक्योरिटी गार्ड और सुपरवाइजर पद के लिए युवाओं से आवेदन मांगे थे। जिसमें सिक्योरिटी गार्ड के लिए 21- 37 वर्ष की आयु और 10 - 13000 की तनख्वाह थी। जबकि सुपरवाइजर पद के लिए 21- 35 वर्ष की आयु और 12वीं पास होने के साथ-साथ 15 -18 हज़ार की नौकरी थी।

कंपनी के भर्ती अधिकारी सुरेंद्र कुमार पोर्टर की माने तो इन भर्ती प्रक्रिया के दौरान जिन युवाओं का चयन होगा उन्हें मध्य प्रदेश, गुजरात और दिल्ली में पोस्टिंग दी जाएगी। सुपरवाइजर पद के लिए 3 माह की ट्रेनिंग होगी जबकि सिक्योरिटी गार्ड के लिए 1 माह की ट्रेनिंग के उपरांत युवाओं को नौकरी का ऑफर किया जाएगा। 65 साल की उम्र तक युवा नौकरी कर सकेंगे। जिन्हें प्रतिवर्ष 10 फीसदी वेतन इंक्रीमेंट दिया जाएगा।

सेवानिवृत्त होने पर इन्हें पेंशन भी

यदि 10 साल की सेवा करते हैं तो इन्हें 12.25 फीसदी पेंशन 65 की उम्र पर सुविधा दी जाएगी, क्योंकि कोई भी कंपनी युवाओं को एक दो साल की सेवाएं तो ले लेती है लेकिन 60 - 65 साल की उम्र तक रखने का कोई वादा नहीं करती।

इसलिए तकरीबन 762 युवाओं ने इन पदों के लिए अपनी योग्यता दिखाई लेकिन कुछ दृष्टि दोष की वजह से, कुछ वजन की वजह से कुछ उम्र की वजह से और कुछ शहर छोड़कर दूसरी जगह रोजगार मिलने की वजह से चयनित नहीं हो सके। जिन्होंने ऊंचाई, वजन, उम्र और अन्य दस्तावेजों में अपना प्रदर्शन किया वह इसके लिए चयनित हुए हैं।

10500 की सिक्योरिटी राशि जमा न कर सके तो जॉब नहीं मिली

नौकरी हासिल करने के लिए 10500 की राशि पूरे सेवाकाल में एक बार देनी होगी इसके तहत युवक को 2 जोड़ी वर्दी बूट टोपी बेल्ट स्वेटर और अन्य सामग्री मिलेगी यह सिक्योरिटी राशि जमा करना अनिवार्य था इस वजह से बहुत से युवा इस राशि को जमा करने में असमर्थ देखें जिसकी वजह से बेरोजगार हासिल नहीं कर सके लेकिन जिन युवाओं ने यह राशि जमा कि उन्हें रोजगार का अवसर उपलब्ध हो गया कुल मिलाकर जिले की 166 युवा इस रोजगार मेले से रोजगार हासिल करने में सफल रहे।

लॉकडाउन में बेरोजगार हो गया

2016 में मैंने बीई किया था। इसके बाद मालनपुर में मुझे जॉब मिल गया, लेकिन लॉकडाउन लगने से जॉब छूटा तो मैं बेरोजगार हो गया। चूंकि शादी हो चुकी थी,अब रोजगार मिलना आवश्यक था। इसलिए मैंने सिक्योरिटी सुपरवाइजर बनने इंटरव्यू दिया। यदि जॉब मिल जाता है तो अवश्य करूंगा। -इंजीनियर देवेंद्र धाकड़, 28 साल, निवासी रायपुर बैराड़, जिला शिवपुरी

सुपरवाइजर के जॉब के लिए भी तैयार हूं

मैंने 2014 में बीकॉम किया। इसके बाद मुझे असिस्टेंट मैनेजर का जॉब एक्सिस बैंक इंदौर में मिल गया था, लेकिन कोरोना की वजह से मेरा जॉब छूट गया और मुझे वापस शिवपुरी लौटना पड़ा।

अब मुझे वापस जॉब की तलाश है। कब तक बेरोजगार बैठा रहूंगा। 29 साल की मेरी उम्र हो गई है ऐसे में यदि सुपरवाइजर का जॉब भी मुझे मिलता है, तो मैं उसे करने तैयार हूँ, कम से कम हाथ में पैसा तो आएगा, जिससे गुजारा हो सकेगा। -प्रतीक राठौर, निवासी कस्टम डेट शिवपुरी

166 बेरोजगारों को चयनित किया है

हमारी कंपनी में शिवपुरी जिले के बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के लिए यह मौका दिया है। जिसमें सिक्योरिटी गार्ड और सुपरवाइजर के लिए हमने आवेदन लिए।अब तक 166 युवा इसमें चयनित हो चुके हैं। जिनमें 5 सुपरवाइजर और 161 सिक्योरिटी गार्ड के लिए दक्ष पाए गए। अब इन्हें हम दिल्ली, गुजरात और मध्यप्रदेश के हिस्सों में नौकरी के अवसर प्रदान करेंगे।
सुरेंद्र कुमार ,भर्ती प्रमुख, सिक्योरिटी स्किल कम्युनिकेशन, इंडिया लिमिटेड