कागजों में सिमटी संबल योजना, CEO बोले हमारे पास फंड नहीं पैसे कहां से दें - Pohri News

पोहरी। शिवपुरी जिले की जनपद पंचायत पोहरी में शासन की योजना को जिम्मेदार अधिकारी पलीता लगाते नजर आ रहे हैं। यहां संबल योजना के तहत मृतकों के परिजनों को मिलने वाली दो लाख रुपए की राशि के लिए दो साल से भटक रहे हैं मृतकों के परिजन, मगर अभी तक योजना का लाभ कोई लाभ हितग्राही परिजनों को नहीं मिला है।

मामला जनपद पंचायत पोहरी के ग्राम पंचायत अर्गरा का है जहां 2 साल पहले विसराम धाकड़ की मृत्यु हो गई।। जिसके बाद पीड़ित मृतक के परिजनों ने संबल योजना के तहत परिजनों को मिलने वाली राशि से संबंधित सभी कागज सरपंच सचिव को दे दिए और खास बात यह है कि राशि भी स्वीकृत हो गई मगर दो साल बीत जाने के बाद भी अभी तक पीड़िता को योजना का लाभ नहीं मिला है।

योजनाओं का लाभ लेने के लिए भटक रही महिला से जब मीडिया ने बात की तो महिला का कहना था कि हमने कागजों की पूर्ति करते हुए सभी कागज सरपंच सचिव को दे दिए और सरपंच सचिव ने कहा कि जल्दी आपको दो लाख मिल जाएंगे मगर हमें आज तक पैसे नहीं मिले।

इसके बाद जब मीडिया ने सरपंच सचिब से बात की तो उनका कहना था कि हमने इनके सभी कागज जनपद कार्यालय में तभी लगा दिए थे।। लेकिन मृतक के परिजनों को राशी आज दिनांक तक उनके खाते में नही आई हैं।

इतना ही नहीं वहीं जनपद सीईओ से पीड़ितों ने कहा तो जनपद सीईओ शैलेंद्र आदिवासी ने भी ये कहकर पल्ला झाड़ दिया था कि फंड में रकम नही हैं।।कहा कि जैसे ही फंड में पैसे आएंगे हम डाल देंगे लेकिन उसके कुछ दिन बाद ही फंड में राशि आ गई फिर भी आज दिनांक तक मृतकों के परिजनो को योजना का लाभ नही मिला।

एक ओर जहां प्रदेश के मुखिया कहते हैं कि संबल योजना के तहत विभिन्न प्रकार का लाभ हितग्राहियों को दिया जा रहा है लेकिन यहां तो संबल योजना केवल कागजों में ही सीमित रह गई है और लाभार्थी हितग्राही को उसका कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है ऐसे में शासन की योजना एक कोने में धरी रह गई है शासन व प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नहीं है अब आगे देखना यह है कि शासन व प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा पीड़िता को शासन की योजना का लाभ दिला पाते हैं या नहीं।