कोरोना के चलते ग्रीष्मकालीन राजधानी के पर्यटन स्थलों पर पसरा सन्नाटा - Shivpuri News

शिवपुरी। कभी सिंधिया स्टेट की ग्रीष्मकालीन राजधानी तो कभी पर्यटन स्थलों की नगरी के रूप से जानने वाली शिवपुरी के पर्यटक स्थलों पर आज सन्नाटा पसरा हुआ है। दो साल से कोरोना के चलते पर्यटन स्थलों पर लोगों की आवाजाही नहीं हो रही है जिससे पर्यटन व्यवसाय से जुडे लोगों के सामने रोजी रोटी का संकट खडा हो गया है।

नहीं निहारने आ रहे संगमरमरी छत्री को पर्यटक

मां बेट के प्रेम की अनूठी मिसाल शिवपुरी की संगमरमरी छऋियों को देखने के लिए पर्यटक आते थे लेकिन कोरोना के चलते पर्यटक स्थल पूरी तरह से बंद हैं। इतना ही नहीं कोरोना के चलते कुछ दिन पहले तक लॉकडाउन खुला हुआ था तब भी पर्यटक इन पर्यटक स्थलों पर नहीं जा रहे थे।

कैफेटेरिया सहित झरना वीरान

भदैया कुड पर बहने वाला बारह महीने का झरना आज वीरान है। पर्यटकों की आवाजाही और उन्हें खाने पीने की सुविधा के लिए यहां कैफेटेरिया भी बनाया गया लेकिन आज यहां सब वीरान हैं। कैफेटेरिया वालों को भी कोरोना के चलते नुकसान उठाना पड रहा है।

महाभारत कालीन कुंडों पर सन्नाटा

महाभारत काल के बानगंगा के कुंंडों पर भी कोरोना में सन्नाटा पसरा हुआ है। इन कुंडों को निहारने और इसके इतिहास को जानने के लिए पर्यटक यहां आते थे लेकिन अब यहां वीरानी छाई हुई है।