पिता-पुत्र ने घर देखने नही आने पर सरकारी डॉक्टर को धमकाया, डॉक्टर ने भेजा CMHO को अपना इस्तीफा - Pichhore News

पिछोर। खबर जिले के पिछोर अनुविभाग में आने वाले ख्रोड प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र से आ रही हैं कि खोड प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र के प्रभारी डॉ.अनुराग तिवारी ने खोड में निवासरत एक रिटायर्ट शिक्षक और पुत्र के कारण नौकरी से त्याग पत्र देने का मन बनाते हुए CMHO को अपना इस्तीफा भेज दिया हैं। हालाकि CMHO ने अभी डॉक्टर का इस्तीफा स्वीकार नही किया हैंं। बताया जा रहा है कि डॉक्टर नौकरी न करने की धमकी दी जा रही हैं और दतिया से किसी नेता से भी फोन पर धमकाया जा रहा हैं।

जानकारी के अनुसार मुबाबिक खोड प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र प्रभारी डॉ.अनुराग तिवारी ने शुक्रवार को अपनी नौकरी से इस्तीफा CMHO डॉ एएल शर्मा को भेजा हैं डॉ.तिवारी ने बताया कि 6 दिन पूर्व खोड कस्बे में रहने वाले रिटायर्ट शिक्षक जगजीवन नीखरा ने उनके घर मे बेटी के बीमार होने पर मुझको घर पर ही उसको देखने बुलाया।

मैने शिक्षक के घर पर जाकर देखने से मना कर दिया और कहा कि आप अपनी बेटी को लेकर अस्पताल ले आओ जो भी समस्या होगी यही से ईलाज कर दिया जाऐगा। इस समय कोरोना काल चल रहा हैं काम अधिक हैं और इस समय ऐसे घर-घर जाकर किसी भी मरीज को जाकर नही देखा जा सकता है।

इस पर जगजीवन नीखरा और उनका बेटा कल्लन नीखरा जो खोड में मोटर पार्टस की दुकान संचालित करता हैं दोनो मुझे धमकाने लगे और बोले घर पर नही आ सकते तो नौकरी करने देंगें। इतना ही नही दतिया से किसी छुटभैया नेता से मुझे फोन पर धमकी भी दिलाने लगे। इससे काफी मानसिक अघात हुआ हैं और ऐसी स्थिती में मैं नौकरी नही कर सकता।यह बता कि डॉ.तिवारी खनियाधाना में 10 माह से पदस्थ हैं।

इस्तीफे में विवाद नही मानसिक तनाव बताया

जानकारी मिल रही है कि 14 मई को डॉक्टर तिवारी ने जो इस्तीफा सीएमएचओ को भेजा हैं,उसमें डॉक्टर ने किसी से भी किसी प्रकार का विवाद का उल्लेख नही किया हैं,इस इस्तीफे में उन्होने अपनी तबीयत सही न होना और मानसिक तनाव को कारण बताया हैं,लेकिन मीडिया को इस बात की भनक लग गई और इस मामले को लेकर बात की तो उन्होने अपनी पीडा बताई और इस वह इस मामले को लेकर पुलिस में भी ले जाने की बात कर रहे हैं।

वही इस मामले में कलेक्टर शिवपुरी अक्षय कुमार सिंह से बात की तो उन्होने कहा कि मैं सीएमएचओ से इस मामले में बात करता हूं। ऐसा नही होने दिया जाऐगा,कि कोई डॉक्टर इस तरह की परेशानी से अपना इस्तीफा दे।