भोपाल से सिफारिश: बमुश्किल मिला अस्पताल में प्रायवेट वार्ड, न वार्ड में खिडकी और न दरवाजा - Shivpuri News

शिवपुरी। अव्यवस्थाओं के लिए चर्चित शिवपुरी जिला अस्पताल में बिना गेट और बिना खिड़की का प्रायवेट वार्ड फिर चर्चा का विषय बन गया। पिछोर के एक प्रतिष्ठित पाराशर परिवार ने डिलेवरी के लिए बड़ी सोर्स सिफारिश के बाद प्रायवेट वार्ड के नाम पर स्पेशल वार्ड ले तो लिया। लेकिन वह तब आश्चर्यचकित हो गए, जब न तो उक्त वार्ड में दरबाजे थे और न ही खिड़की।

अब उन्हें समझ नहीं आ रहा कि बिना दरबाजे और खिड़की के वह प्रसूता के किसके भरोसे छोड़कर जाएं। लेकिन अस्पताल प्रशासन अब यह कहकर पल्ला झाड़ रहा है कि प्रायवेट वार्ड जिला अस्पताल में है ही नहीं और ऐसे ही किसी खाली कमरें में जाकर कोई वैसे ही जम गया। लेकिन पाराशर परिवार का कहना है कि उन्होंने बाकायदा उक्त वार्ड को अलॉट कराया है।

एडवोकेट संजीव विलगैयां ने बताया कि पिछोर के पाराशर परिवार में उनकी रिश्तेदारी है और उनके परिवार की किसी महिला सदस्य की डिलेवरी होने पर वह जब देखने के लिए वार्ड में पहुंचे तो यह देखकर आश्चर्यचकित हो गए कि वार्ड में न तो दरबाजा है और न ही खिड़की।

श्री विलगैंया ने बताया कि उन्होंने जब इस संबंध में पाराशर परिवार से पूछताछ की तो वे बहुत दुखी नजर आए और उन्होंने कहा कि अस्पताल में प्रायवेट वार्ड की उन्हें आवश्यकता पड़ी तो पहले तो मना कर दिया गया। लेकिन इसके बाद उन्होंने प्रदेश स्तर तक प्रायवेट अलॉट करने के लिए सिफारिश लगाई।

यहां तक कि एक मंत्री महोदय से भी उन्हेें अनुनय विनय करनी पड़ी। जिसका परिणाम यह हुआ कि उन्हें प्रायवेट तो अलॉट हुआ। लेकिन वह आश्चर्यचकित हो गए जब अपने पारिवारिक सदस्य को वह शिफ्ट कराने पहुंचे। क्योंकि उस रूम में न तो गेट था और न ही खिडकी।

इनका कहना है-
जिला अस्पताल में कोई प्रायवेट वार्ड नहीं है। जो भी शिकायत कर रहा है वह बिना अलॉट के किसी खाली कमरे में जम गए होंगे। बिना दरबाजे और खिड़की वाला उक्त वार्ड किसी को अलॉट ही नहीं किया जाता।
डॉ. पीके खरे, अधीक्षक जिला अस्पताल शिवपुरी

यदि अस्पताल प्रशासन हमें अनुमति दे तो हम अपने खर्चे से उक्त वार्ड में दरबाजे और खिड़की लगाने को तैयार हैं, ताकि किसी और दूसरे आने वाले को हमारी तरह असुविधा, परेशानी और शर्म का एहसास न हो। जिसे भी उक्त वार्ड अलॉट हो, वह उसका उपभोग निर्भीकतापूर्वक कर सके। अस्पताल प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए शर्मनाक बयान दे रहा है कि कोई वैसे ही उक्त वार्ड मेें जम गया होगा।
संजीव विलगैंया, अभिभाषक शिवपुरी