भाजपा का घोषणा पत्र ही प्रत्याशी का संकल्प पत्र होगा:विधायक देवेन्द्र वर्मा - Shivpuri News

शिवपुरी। भाजपा ने नगरीय निकाय चुनावों के लिए रणनीति बनाना शुरू कर दिया है। भाजपा नगरीय निकाय चुनाव लोकल मुददों पर हीं लड़ेगी। घोषणा पत्र में लोकल समस्याओं को स्थान दिया जाएगा भाजपा का घोषणा पत्र हीं प्रत्याशी का संकल्प पत्र होगा।

भाजपा कार्यालय पर नगरीय निकाय चुनावों को लेकर आयोजित हुई भाजपा की जिला स्तरीय बैठक में खण्डवा विधायक देवेन्द्र वर्मा ने कहा की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा संपूर्ण जिले में विकास कार्य प्राथमिकता के साथ कराए जा रहे है। इसके तहत नगरीय निकाय क्षेत्र में निवासरत, डॉक्टर, वकील, इंजीनियर व मीडिया के सुझाव लिए जा रहे हैं।

इसी क्रम में आज शनिवार को भाजपा कार्यालय शिवपुरी कोठी नम्बर एक पर खण्डवा विधायक देवेन्द्र वर्मा ने प्रेस वार्ता में अपनी बात कहीं व मीडिया के सुझावों पर सहमति व्यक्त की। इस मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष राजू बाथम व भाजपा नगर मंडल अध्यक्ष विपुल जैमिन, पुरानी शिवपुरी मंडल के अध्यक्ष केपी परमार, जिला महामंत्री राजकुमार खटीक सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

विधायक श्री वर्मा ने कहा की भाजपा के सभी मंडल अध्यक्षों और पदाधिकारियों सहित पूर्व भाजपा के नगर पालिका एवं नगर पारिषद अध्यक्षों के महत्वपूर्ण सुझावों के बाद नगर पालिका सहित नगर पंचायतों के सुझावों के आधार पर घोषणा पत्र तैयार होंगे। नगर परिषदों के लिए पृथक से स्थानीय समस्याओं को लेकर घोषणा संकल्प पत्र संगठन के द्वारा तय किए जाएंगे।

पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए उन्होने कहा की स्थानीय समस्याओंं को जानना और समझना है जनहित में इन मुददों को भाजपा के घोषणा पत्र में शामिल कराना है। समस्याओं का निराकरण क्यों नहीं हुआ इस पर भी मंथन करना है। भाजपा प्रत्याशी का घोषणा पत्र हीं संकल्प पत्र होगा।

इस अवसर पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने अपने सुझाव रखते हुए बताया कि गरीब परिवारों ने कॉलोनियों में प्लाट तो लिए लेकिन शासन ने इन कॉलोनियों को अवैध घोषित कर दिया हैं। ऐसी स्थिति में लोग ठगे से रह गए हैं। जब प्लाटों की रजिस्ट्री हो रही है तो वह अवैध कैसे हैं।

शहर में एक पार्क को छोड़ दिया जाए तो 150 से अधिक पार्क कचरा घर बने हुए हैं। इसी तरह सार्वजनिक स्थानों में कहीं पर भी पार्किंग के लिए कोई स्थल सुनिश्चित नहीं है और ऐसे में शहर यातायात व्यवस्था भी अवरूद्ध बनी रहती हैं। वहीं साथ ही शहर में संचालित विभिन्न योजनाओं पर मीडिया ने सवाल खड़े किए।