भ्रष्टाचार के खिलाफ लामबंद हुए अधिवक्ता, बोले बाबू खुल्लम खुला पैसा मांगते है, जमा रखे है दलाल - Pichhore News

पिछोर। जिले के पिछोर अनुविभाग में विगत कई दिनों से एसडीएम तथा तहसील कार्यालय मैं इनके और इनके बाबुओ के द्वारा व्याप्त भ्रष्टाचार, मनमानी और अनिमियताओं को लेकर एक तरफ एसडीएम तथा पदस्थ बाबू और दूसरी तरफ आम जनता, किसान तथा अधिवक्ताओं के बीच विरोधाभास खुल के सामने आने लगा है।

जिसमें कलेक्टर समेत अधिकारियों से शिकायत के बाद कार्यवाही न होते देख कर कल किसान और आम जनता तथा आज अधिवक्तागण सड़क पर विरोध प्रदर्शन कर इनके खिलाफ लामबंद होते दिखाई दे रहे हैं। इसी क्रम में विगत दिनों पिछोर के आधा सैकड़ा से अधिक अधिवक्ताओं ने कई बार कलेक्टर क्षेत्रीय विधायक समेत बार काउंसिल को अवगत कराया। 

लेकिन कार्यवाही और व्यवस्था में सुधार न होने की स्थिति में आज फिर पिछोर अधिवक्ता संघ ने जिला कलेक्टर को ई-मेल से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजा है। जिसमें अधिवक्ताओं ने ज्ञापन में अपनी मांगों और समस्याओं को रखते हुए सात दिवस का अल्टीमेटम दिया है समयावधि में समाधान ना होने की स्थिति में अधिवक्ताओं ने राजस्व न्यायालय के कार्यों से विरत रहने की चेतावनी भी दी है। 

अधिवक्ता गणों ने अपनी मांगों में उल्लेख किया है कि तहसील एवं एसडीएम कार्यालय के बाहर बैठे अनाधिकृत दलालों को तत्काल हटाया जाए ये लोग गलत आवेदन टाइप कर प्रकरण पेश करते हैं और बाद में परेशान गरीब व कृषक होते हैं यह अनाधिकृत लोग दलाली करके सीधे-सीधे किसानों का पैसा ऐंठते हैं वही अधिवक्ताओं का व्यवसाय प्रभावित भी कर रहे हैं। 

एसडीएम कार्यालय में पदस्थ राजस्व रीडर चित्रांश श्रीवास्तव भ्रष्ट लापरवाह बाबू स्थानीय होकर पदस्थापना से ही पिछोर में पदस्थ है किसके द्वारा पक्षकारों से संबंध होने के कारण सीधा पैसा लेकर भ्रष्ट आचरण किया जाता है। दोनों कार्यालय के राजस्व रीडर द्वारा नकल शाखा में समय सीमा पर प्रकरण नहीं भेजे जाते अतः अधिवक्ताओं एवं पक्षकारों को समय अवधि के अंदर नकल प्राप्त नहीं होती और अग्रिम कार्यवाही प्रभावित होती हैं। 

आदेश पत्रिकाएं विधि अनुसार नहीं लिखी जाती पारित आदेश अधिवक्ताओं को नोट नहीं कराए जाते विधि प्रक्रिया समय सीमा में पालन कराई जाकर प्रकरण निराकृत किए जाएं। 
साथ ही लोक सेवा केंद्रों से वकीलों पक्षकारों को तत्काल नकल नहीं मिलती जिससे समय सीमा में पेश नहीं कर पाते प्रकरण राजस्व अभिलेखों की नकल तत्काल दिलाई जाये। 

एसडीएम व तहसीलदार के निराकृत प्रकरण रिकॉर्ड शाखा पिछोर में जमा कराए जाएं

इंद्राज दुरुस्ती के मामलों का शीघ्र निराकरण कराया जाए कंप्यूटर अभिलेखों में त्रुटियां पटवारी द्वारा की गई है और दंड निर्दोष आम जनता भुगत रही है यह गंभीर समस्या है अतः एक अभियान चलाकर इन त्रुटियों को ठीक कराया जाए।

जिन भूमि स्वामियों की भूमि उनके स्वत की है और पूर्व में राजस्व अभिलेखों में दर्ज रही है लेकिन कम्प्यूटर डाटा परिमार्जन के समय शासकीय दर्ज हो गई है इस त्रुटि को भी अभियान आदि चलाकर तुरंत सही किया जाए। कंप्यूटर नकल शाखा आईटी सेंटर के ऑपरेटर किसानों से निर्धारित शुल्क से अधिक राशि खसरा खतौनी आदि की वसूलते हैं और रसीद नहीं दी जाती निर्धारित शुल्क का बोर्ड चस्पा किया जाए और नकल के भुगतान की रसीद दी जाए

रीडर चित्रांश पर कार्रवाई करने की मांग

पिछोर अधिवक्ता संघ ने बताया कि एसडीएम कार्यालय में बरसों से पदस्थ स्थानीय राजस्व रीडर चित्रांश श्रीवास्तव रोज भ्रष्टाचार के नए आयाम स्थापित कर रहा है 20 दिसंबर 2019 तथा 1 दिसंबर 20 को अधिवक्ता संघ खनियाधाना 11 नवंबर 20 को भाजपा मंडल अध्यक्ष पिछोर ने तथा 17 नवंबर 20 को कलेक्टर शिवपुरी को किसके द्वारा भ्रष्टाचार किए जाने की शिकायतें दर्ज कराई थी वही समय-समय पर समाचार पत्रों ने भी समस्याओं से संबंधित समाचार प्रकाशित किए अब वकील अभिलंब चित्रांश श्रीवास्तव के कार्यों की जांच एवं स्थानांतरण की मांग कर रहे हैं।

इस दौरान प्रमुख रूप से उपस्थित रहे प्रमुख अधिवक्ताओं में रामनिवास शर्मा राजकुमार पाठक अमृतलाल लोधी आरडी झा महेंद्र मोदी राकेश शास्त्री डी एस बुंदेला लेमन सिंह रजक सियाराम भार्गव नंदकिशोर चौरसिया रामस्वरूप लोधी कपिल तिवारी हरिओम शर्मा अनुराग पुरोहित दीपक कोली राजेंद्र पाठक अमित वर्मा डी आर गुप्ता डीएस चौहान कैलाश अहिरवार अरविंद भार्गव आदि रहे।