युवक पर मधुमक्खियों का हमला, उसे बचाने एंबुलेंस के EMT को PPE किट पहनी पडी: युवक बेहोश - Shivpuri News

शिवपुरी। खबर शिवपुरी-पोहरी रोड पर स्थित गिर्राज होटल से आ रही हैं कि बाईक पर सवार होकर पिता पुत्र पर मधुमक्खियो के दल ने हमला कर दिया। हमला उतना उग्र था कि उसे बचाने आए 2 लोगो पर भी मधुमक्खियो ने हमला कर दिया। उसे बचाने आए एंबूलेंस के ईएमटी को पीपीई किट पहनी पडी। जब जाकर उसे बचाया गया। बताया जा रहा हैं कि 50 मिनिट तक मधुमक्खियो ने युवक को इतने डंक मारे की वह बेहोश हो गया। 

जानकारी के मुताबिक ग्राम देवरीखुर्द पाेहरी निवासी गजेंद्र जाटव (22) शनिवार काे अपने पिता कंचन (50) पुत्र जगनूराम जाटव के साथ बाइक से शिवपुरी आ रहा था। शिवपुरी शहर से करीब 10 किमी पहले गिर्राज होटल पर वे पानी पीने के लिए रुक गए। 

दोपहर करीब 1.30 बजे गजेंद्र पानी पीने के लिए टंकी की तरफ गया, तभी मधुमक्खियों ने हमला कर दिया। बड़ी संख्या में आईं मधुमक्खियों ने ऐसा घेरा कि युवक गजेंद्र को इधर-उधर भागने तक का मौका नहीं मिला। 

बेटे को बचाने आए पिता कंचन जाटव पर भी मधुमक्खियों ने हमला कर दिया। उन्हें जान बचाकर भागना पड़ा। बड़ी संख्या में मधुमक्खियों को देखकर होटल पर माैजूद लोग भी भाग गए। कुछ देर बाद बाइक से गुजर रहे प्रमोद कुमार ओझा (35) पुत्र चिरोंजीलाल ओझा निवासी परिच्छा ने गजेंद्र को मधुमक्खियों से घिरा देखा तो वह बाइक रोककर उसके पास पहुंचा लेकिन मधुमक्खियों ने प्रमोद पर भी हमला कर दिया। प्रमोद ने भागकर जान बचाई।

ईएमटी ने किट पहनी और कंबल ओढ़ाकर युवक को बचाया

मधुमक्खियों चारों तरफ से गजेंद्र को घेरे हुईं थीं, जिससे कोई भी उसे बचाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था। इसी बीच किसी ने 108 नंबर पर सूचना दे दी। ईएमटी ब्रजलाल साहू व पायलट रंजीत गुप्ता एंबुलेंस लेकर मौके पर पहुंचे। हालात देखकर वे दंग रह गए। 

ब्रजलाल ने एंबुलेंस में रखी पीपीई किट, डबल दस्ताने व मास्क पहने। आसपास ढूंढने पर कंबल मिल गया। उसने पीपीई किट पहनकर गजेंद्र को कंबल ओढ़ाया, तब मधुमक्खियां भाग गईं। इसके बाद पायलट की मदद से गजेंद्र को एंबुलेंस में बिठा लिया।

एंबुलेंस देख बाइक सवार बोला-मुझे भी काटा

ईएमटी ब्रजलाल साहू ने बताया कि एंबुलेंस देखकर प्रमोद कुमार ओझा भी दौड़कर आया और बोला कि मुझे भी मधुमक्खियों ने काटा है। दोनों को लेकर एंबुलेंस बढ़ाई तो 500 मीटर दूरी पर एक व्यक्ति ने हाथ देकर रोका। व्यक्ति ने अपना नाम कंचन बताया और कहा कि मुझे मधुमक्खियों ने काट लिया है। बाद में पता चला कि कंचन तो गजेंद्र का पिता है। इसके बाद तीनों को अस्पताल लाकर भर्ती कराया।

गजेंद्र अस्पताल में भी बेहोश, कपड़े उतारे तो कई मधुमक्खियां निकलीं

अस्पताल में पहुंचने पर गजेंद्र, उसके पिता कंचन व युवक प्रमोद ओझा काे भर्ती कर इलाज किया जा रहा है। गजेंद्र देर शाम तक होश में नहीं आ सका था। गजेंद्र के चेहरे, गर्दन, हाथ सहित पूरे शरीर में मधुमक्खियों के डंक लगे हैं, जिन्हें निकाला गया। कपड़े उतारने पर कई मधुमक्खियां निकलीं।