बामौरकलां में झोलाछाप की भरमार,कुकुरमुत्तों की तरह गली-गली में खोली क्लीनिक / PICHHORE NEWS

खनियांधाना। जिले के बामौरकलाँ में झोलाछाप डॉक्टरों की भरमार है। चाय की गुमटियों जैसी दुकानों में झोलाछाप डॉक्टर मरीजों का इलाज कर रहे हैं। मरीज चाहे उल्टी, दस्त, खांसी, बुखार से पीड़ित हो या फिर अन्य कोई बीमारी से। सभी बीमारियों का इलाज यह झोलाछाप डॉक्टर करने को तैयार हो जाते हैं। बगैर डिग्री या डिप्लोमा के ये क्लीनिक संचालित करने वाले चिकित्सकों की बमोरकलां में कमी नहीं है।

बिना लाइसेंस के दवाओं का भंडारण भी करते हैं डॉक्टर

बामौरकलाँ में झोलाछाप डॉक्टरों द्वारा बिना पंजीयन के एलोपैथी चिकित्सा व्यवसाय ही नहीं किया जा रहा है, बल्कि बिना ड्रग लाइसेंस के दवाओं का भंडारण व विक्रय भी अवैध रूप से किया जा रहा है।

दुकानों के भीतर कार्टून में दवाओं का अवैध तरीके से भंडारण रहता है। इन दिनों मौसमी बीमारियों का कहर है। झोलाछाप डॉक्टरों की दुकानें मरीजों से भरी पड़ी हैं। मौसम बदलने से उल्टी, दस्त, बुखार जैसी बीमारियां ज्यादा पनप रही हैं। झोलाछाप डॉक्टर बीमारियों का फायदा उठाकर मरीजों को जमकर लूट रहे हैं।