कोरोना पॉजीटिव परिवार की ट्रेवल हिस्ट्री में निकला मंदिर, दिगम्बर जैन मंदिर को किया प्रशासन ने लॉक / Shivpuri News

शिवपुरी। पीएचई में कार्यरत हैंडपम्प टैक्नीशियन सहित परिवार के 7 लोगों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के हाथ पैर फूल गए हैं। पीएचई के अधिकारी और कर्मचारियों को जहां क्वारंटीन किया गया है।

वहीं बदरवास पोस्ट ऑफिस का स्टाफ भी क्वारंटीन हो गया है। साथ ही प्रशासनिक अधिकारियों ने जैन परिवार के सम्पर्क में आने वाले लोगों की तलाश शुरू कर दी है और आज सुबह न्यू ब्लॉक मेंं स्थित श्री सीमांधर स्वामी दिगम्बर जिन मंदिर को भी सील कर दिया है। क्योंकि जैन परिवार के लोग जांच के लिए आने से पूर्व लगातार मंदिर गए थे और वहां मंदिर के पुजारी सहित अन्य भक्तों के सम्पर्क में आए थे।

मौके पर पहुंचे एसडीएम अरिवंद वाजपेयी, सीएमओ केके पटेरिया और एचओ गोविंद भार्गव ने मौके पर पहुंचकर मंदिर में मौजूद पुजारी व अन्य भक्तों से जानकारी एकत्रित कर उन्हें क्वारंटीन रहने का निर्देश दिया है।

वहीं नगर पालिका द्वारा शहर में एनाउंस कराया जा रहा है कि शिवपुरी में जैन परिवार के 7 सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जो भी लोग इस परिवार के किसी भी सदस्य के सम्पर्क में आए हों तो वह अपने आप को होम क्वारंटीन कर लें और कोई भी लक्षण पाए जाने पर तुरंत जांच कराकर स्वास्थ्य विभाग या प्रशासन को जानकारी दें।

ज्ञात हो कि पीएचई में पदस्थ कर्मचारी का रविवार को कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था। इसके बाद परिवार के लोगों के भी सैम्पल लिए गए थे। जिनकी रिपोर्ट कल आई तो उसमें उक्त कर्मचारी का पोस्ट मास्टर पुत्र, पुत्रवधु, पुत्री और उनके दो नाती और एक पोता कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

जैन परिवार ने रिपोर्ट आने से दो दिन पूर्व एक बाइक खरीदी थी और इस खुशी में कॉलोनी में लड्डू बांटे थे। साथ ही घर पर आने वाली काम वाली बाई को भी लड्डू खिलाए थे।

लेकिन अब परिवार के 7 सदस्य कोरोना संक्रमित पाए गए हैं तो पूरी कॉलोनी सहित उनके रिश्तेदार व अन्य सम्पर्क के लोगों पर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है। कईयों ने तो अपने आप को होम क्वारंटीन कर लिया है।

वहीं आज प्रशासनिक टीम सुबह से ही उनके सम्पर्क में आने वाले लोगों को तलाश रही है और इसी तारतम्य में प्रशासनिक अधिकारी जैन मंदिर पहुंचे। जहां संक्रमित परिवार के सदस्य दर्शन करने आते थे। प्रशासन ने उक्त मंदिर को 10 दिन के लिए सील कर दिया है और मंदिर के आसपास का क्षेत्र कंटेंमेंट क्षेत्र घोषित कर दिया है।