जिले में सबसे ज्यादा डाबरपुरा गांव में वापस लौटे हैं लोग, उसके बाद 2 गांवो में ओर

शिवपुरी। कोरोना के डर से अपने घर छोड कर कामधंधे या दूसरी वजहो से निकले लोग अपने घर वापस आ गए हैं। जिले के अगर गांवो की बात करे तो पोहरी के अनुविभाग के डाबरपुरा गांव में सबसे अधिक लोग वापस आए हैं।

बताया जा रहा हैं कि इस गांव में लगभग 300 की संख्या में लोगो की वापस आने की जानकारी आ रही हैं। यह निवासी मूलरूप से यहां के रहने वाले हैं,लेकिन कुछ सालो से मुंबई जा बसे थे।

नगर परिषद सीएमओ अब्बदुल अकबर कुर्रेशी का ने बताया कि सभी लोगो का स्वास्थय परीक्षण करा लिया गया। घरो पर रहने क चेतावनी चस्पा कर उन्हैं घरो में ही हॉम क्वारंटाईन कराया जा रहा हैं,एंव निगरानी रखी जा रही हैं।

वही करैरा के कुछ गांव के लोग मजदूरी करने के लिए उत्तर प्रदेश के इलाको में जाते हैं। आगरा सहित इटावा में आलू खोदने वाले मजदूर कोरोना के फेर में वापस अपने 48 ग्रामीण अपने गांव वापस लौटे हैं। पटवारी सालिगराम का कहना हैं सभी लोगो को करैरा में स्वास्थय परिक्षण करा लिया गया हैं।

किसी को भी कोरोना जैसे लक्षण नही दिखे हैं फिर इन पर निगरानी रखी जा रही हैं। इस गांव की आबादी 2200 बताई जा रही हैं।

पिछोर के खोल इलाके में 25 से अधिक ग्रामीण इटावा से आलू खोद कर वापस आए हैं। यह सभी पैदल चल कर अपने घर वापस आए हैं। गांव के सचिव ने बताया कि इन सभी का स्वास्थय परिक्षण किया गया। घर में क्वारंटाईन कराया जा रहा हैं ओर इन पर निगाह रखी जा रही हैं।

सीएमएचओ डॉ ए.एल.शर्मा का कहना हैं कि पूरे जिले के कई गांवो में मजदूर वापस आने की सूचना मिली हैं। सभी का स्वास्थय परिक्षण कराया गया हैं। जिनमें कोरोना के लक्ष्ण मिले हैं उनका सैंपल लिया गया हैं।