छात्रावास के निरीक्षण दल पर उठे सवाल: 3 छात्राओ के गायब होने की खबर वायरल,आखिर क्या छुपा रहा हैं विभाग

शिवुपरी। खबर जिले के कोलारस अनुविभाग के इंदार बालिका छात्रावास से आ रही हैं यहां छात्रावास राजीव गांधी शिक्षा मिशन के अतंर्गत आता हैं। इस छात्रावास की वार्डन और सहायक वार्डन के आपसी विवाद के कारण छात्रावास की छात्राए को आए दिन परेशानी का सामना करना पड रहा हैं,और आज इस विवाद को आंखो से देखा डीपीसी कर्ण ने। इस विवाद के कार्ण छात्राओ के चरित्र पर भी आरोप लग रहे हैं। इसमें सबसे बडी बात की स्वयं निरिक्षण दल पर सवाल उठ रहे हैं।  

जानकारी के अनुसार इंदार के वार्डन में 3 छात्रओ के गायब होने की खबर विभाग में वायरल हो गई। और इस खबर की जांच करने के लिए स्वयं डीपीसी डीआर कर्ण ने इस छात्रावास का दौरा किया। बताया जा रहा हैं कि इस नियम भरे दौरे में सबसे पहले स्वंय डीपीसी ने अपने विभाग के नियम तोडे। डीपीसी अपने साथ वत्सराज राठौर और बूढा डोंगर वार्डन वंदना शर्मा थी।

वत्सराज राठौर जो कल तक एपीसी जेंडर थे वे किस अधिकार से साथ कैसे गए और छात्रावास की अधीक्षक वंदना शर्मा छात्रावास को छोडकर किसके आदेश से डीपीसी के साथ गई। इस जांच टीम और कार्रवाई के विषय में बात करने के लिए डीपीसी कर्ण को कई बार फोन लगाया गया लेकिन उन्होने फोन उठाने की जहमत नही उठाई। चलिए अब छात्रावास की मूल खबर की ओर चलते हैं।

बताया जा रहा हैं कि छात्रावास की तीन छात्राए गायब होने की खबर विभाग में वायरल किया गया। इस सत्य को जानने और अनहोनी की अंशका को देखते हुए डीपीसी अपनी नियम विरूद्ध् बनाई गई टीम के साथ दौरा करने पहुंचे।

जानकारी आ रही हैं कि वहां पर कोई छात्राए गायब नही हुई थी। विभाग में वायरल की गई खबर छात्रावास की वार्डन और सहायक वार्डन के आपसी विवाद से भरी हुई थी। सूत्रो का कहना था कि छात्रावास की 3 छात्राए पिछले 4 दिन से बीमार थी। उनका ईलाज सरकारी अस्पताल में न कराकर खतौरा में किसी झोला छाप डॉक्टर से कराया गया।

आज छात्रावास की एक छात्रा के चाचा आए और छात्रावास से अपनी भतीजी को ईलाज कराने के लिए ले गए थें। इतने में डीपीसी की जांच टीम वहां छात्रावास में पहुंच गई। पता चला की एक छात्रा गायब हैं। छात्रा की जांच पडताल की गई तो ज्ञात हुए की उसके चाचा ही उसका ईलाज कराने के लिए ले गए हैं। जब जाकर मामला शांत हुआ।

लेकिन इस पूरे प्रकरण में कई सावालो का जन्म होता हैं और यह सवाल छात्राओ के सुरक्षा के हित में हैं। पहला सवाल विभाग में छात्राओ के गायब होने की खबर किसने और क्यो वायरल की। छात्राओ के चरित्र पर सवाल क्यो कौन उठा रहा हैं। डीपीसी जांच करने गए और ऐसा क्या देखा कि प्रेस से छुपा रहे हैं।

अपने विभाग को बदनाम करने वाली खबर क्यो वायरल कराई गई। इसके पीछे क्या सजिश हैं। बताया जा रहा हैं कि पिछले साल से छात्रावास की वार्डन आशा रघुवंशी और सहायक वार्डन के बीच विवाद चल रहा हैं एक दूसरे को फसाने के लिए ऐसी खबरे वायरल की जाती हैं। इन दोनो के विवाद थाने भी जा पहुंचा हैं।

कुल मिलाकर इन दोनो वार्डनो के आपसी विवाद में छात्राओ का पीसना हो रहा हैं। इस मामले में छात्रावास की वार्डन आशा रघुवंशी ने बताया की आपको इस विवाद की जानकारी कैसे लगी,इस मामले मे आप डीपीसी साहब से बात करे और उन्होने अपना फोन बंद कर लिया।