शहर को स्मार्ट सिटी बनाने 25 करोड बजट मजूंर: नगर पालिका का नही होगा हस्तक्षेप, होगा सर्वे

शिवपुरी। प्रदेश सरकार ने नौ नगरीय निकायों को मिनी स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने के लिए चिन्हित किया है। इसमें शिवपुरी भी शामिल है। शिवपुरी को मिनी स्मार्ट सिटी बनाने के लिए हाल ही में 25 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं। इसमें 5 करोड़ रुपए नगर पालिका को जारी भी कर दिए हैं। मिनी स्मार्ट सिटी के बजट से शिवपुरी नगरीय क्षेत्र में कई काम कराए जाएंगे। इस बजट से शहर में सारे काम अर्बन डेवलपमेंट कंपनी कराएगी। इन कामों में नगर पालिका का किसी तरह का हस्तक्षेप नहीं रहेगा।

नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग ने 9 नगरीय निकायों को मिनी स्मार्ट सिटी के लिए राशि जारी की है। नगर पालिका परिषद शिवपुरी के लिए स्वीकृत 25 करोड़ में से 5 करोड़ रुपए मिले हैं। योजना के तहत शहर में पार्क, रोड व चौराहों को विकसित करने सहित अन्य काम कराए जाएंगे। अंडरग्रांड केबिल बिछाकर स्मार्ट एलईडी लाईट लाई जाएंगी। इससे शिवपुरी शहर का रात में भी अलग नजारा रहेगा।

हालांकि यह काम शुरू कराने से पहले कंसल्टेंट से पूरे शिवपुरी शहर का सर्वे कराया जाएगा। सर्वे के दौरान काम चिन्हित किए जाएंगे। सर्वे के बाद जिला स्तरीय समिति तय करेगी कि शहर में क्या-क्या काम प्राथमिता के आधार पर होना है। अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही कंसल्टेंट से सर्वे कराने के लिए शासन को पत्र लिखा जाएगा। जिससे मिनी स्मार्ट सिटी पर जल्द काम शुरू हो सके।

नगरीय प्रशासन विभाग ने नगर पालिका को राशि जारी करने के साथ नगर पालिका सीएमओ को निर्देश दिए हैं कि उक्त राशि मप्र अर्बन डेव्हलपमेंट कंपनी लिमिटेड भोपाल के खाते में जारी की जाए। जिससे योजना की प्रगति बाधित ना हो। बता दें कि मिनी स्मार्ट सिटी के लिए विधायक यशोधरा राजे सिंधिया ने खेल मंत्री रहते पहल कर दी थी। जिससे आज शिवपुरी शहर भी योजना में शामिल है।


ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल होंगे विकसित
नगरीय क्षेत्र के ऐतिहासिक, पुरातत्व स्थल, धार्मिक स्थलों को विकसित किया जा सकेगा। शहर के रोड और चौराहों को व्यवस्थित किया जाएगा। नगर के बड़े नाला का ड्रेनेज सिस्टम सुधारा जा सकेगा। पार्किंग स्थल, बस स्टैंड, तालाबों के मरम्मतीकरण पर राशि खर्च की जा सकेगी आसपास के पर्यटक सथलों का विकसित करने, तीर्थ यात्रियों को रुकने के लिए आवास सहित अंडरग्राउंड केबल बिछाकर शहर में स्मार्ट एलईडी लाइट लगाई जा सकेंगी।

शहर स्मार्ट बनाने के लिए इन कामों की दरकार

शहर के प्रमुख चौराहे माधव चौक, गुरुद्वारा चौराहा, झांसी तिराहा, ग्वालियर बायपास, गुना बायपास, पोहरी चौराहा, फतेहपुर चौराहा, गांधी चौराहा, कगस्टगेट, अग्रसेन चौराहा, ठंडी सड़क का नाला, शहर की लाईटिंग, धार्मिक स्थल सिद्धेश्वर मंदिर, राजेश्वरी मंदिर, भुजरिया तालाब, जाधव सागर का जीर्णोद्धार हो सकता है। शहरी एनएच-3 फोरलेन बनने पर पौधे लगाकर हरियाली बढ़ाई जा सकती है।

मिनी स्मार्ट सिटी के लिए जिला स्तरीय समिति

मिनी स्मार्ट सिटी के लिए जिला स्तरीय समिति जुलाई में गठित हो चुकी है। जिसमें कलेक्टर समिति की सभापति, नपाध्यक्ष सहसभापति, एसडीएम शिवपुरी उप सभापति और सीएमओ सदस्य सचिव और सदस्यों में सांसद डॉ केपी यादव या उनका प्रतिनिधि, विधायक यशोधरा राजे सिंधिया या उनका प्रतिनिधि, कार्यपालन यंत्री नगरीय प्रशासन, कार्यपालन यंत्री पीडब्ल्युडी, कार्यपालन यंत्री पीएचई, उप संचालक कृषि एवं किसान विकास व सदस्य सह वित्त कोषालय अधिकारी शिवपुरी शामिल हैं। उक्त समिति की निगरानी में ही मिनी स्मार्ट सिटी के सारे काम होंगे।

क्या काम कराने हैं, इसका जल्द सर्वे कराएंगे

मिनी स्मार्ट सिटी के लिए शिवपुरी शहर में सर्वे कराया जाएगा। जिससे पता चलेगा कि क्या क्या काम कराए जाना हैं। इस संबंध में प्रपोजल बनाकर भोपाल भेजेंगे। कंसल्टेंट को बुलवाकर जल्द सर्वे कराएंगे, ताकि मिनी स्मार्ट सिटी का काम जल्द शुरू हो सके।
अनुग्रहा पी.,कलेक्टर शिवपुरी