बड़ी खबर: लाइनमैन की रिश्वत की मांग के खिलाफ 2 गांव के लोगों ने घेरा विद्धयुत विभाग, पुलिस बुलानी पड़ी VIDEO | KOLARAS NEWS

कोलारस। खबर जिले के कोलारस विद्धुत विभाग के कार्यालय से आ रही है। जहां आज दो गांव के ग्रामीणों ने विद्धुत विभाग की मनमर्जी से परेशान होकर कार्यालय का घेराव कर दिया। इतना ही नहीं ग्रामीण जबरन कार्यालय में रखे ट्रांसफार्मर ले जाने लगे। जिसपर विभाग को पुलिस बुलानी पडी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को समझाईस दी। तब कही ग्रामीण माने। ग्रामीणों ने विभाग के कर्मचारी और अधिकारीयों पर लूट घसौट सहित गुण्डागिर्दी का आरोप लगाया है। ग्रामीणों का कहना है कि हम रिश्वत नहीं देंगे। बिल के पैसे ले ले और हमारा  ट्रांसफार्मर रखबा दे। परंतु लाईनमैन बिना रिश्वत के ट्रांसफार्मर रखने को तैयार ही नही था।

जानकारी के अनुसार ग्राम डेहरवारा और बलेरा गांव के लोग आज एकजुट होकर दो सैंकडा की संख्या में एकत्रित होकर कोलारस विद्धयुत विभाग के कार्यालय जा पहुंचे। जहां दोनो ही गांव के ग्रामीणों ने लाईनमैन मुकेश यादव और एई बैभव त्रिपाठी पर ग्रामीणों को परेशान करने और ट्रांसफर उठाकर गांव में बिजली को बंद करने का आरोप लगाया। जिसपर ग्रामीण एक जुट होकर अपना गुस्सा जाहिर करने जा पहुंचे। ग्रामीण यहां इतने गुस्से में थे कि जबरन ट्रांसफार्मर उठाकर ले जाने लगे।

बताया गया है कि ग्राम डेहरवारा में 6 माह से और बलेरा में 1 माह से बिजली नहीं आ रही। ग्रामीणों ने बताया है कि बलेरा के ग्रामीणों ने इस बात की सूचना अधिकारीयों को दी। तो ग्रामीणों से विभाग के कर्मचारीयों से शिकायत की तो अधिकारी पुराना बिल चुकता करने की कहने लगे। जिसपर ग्रामीणों ने बताया कि सरकार ने उनका बिजली बिल माफ कर दिया है तो वह किस बात का बिल दे। 10 प्रतिशत बिल जमा करने के लिए ग्रामीण तैयार थे। परंतु इस क्षेत्र का लाईनमेन मुकेश यादव ग्रामीणों से रिश्वत में 50 हजार की मांग कर रहा था। साथ ही वह इस रिश्वत की राशि को बरिष्ठ अधिकारीयों के पास पहुंचाने के बाद ही नया ट्रांसफार्मर रखने की कह रहा था।

वही ग्राम बलेरा के ग्रामीणों का आरोप है कि विभाग ने उसके गांव में 1 ही व्यक्ति के 3 से 5 बिल विभाग द्धारा जारी कर दिए। ग्रामीणों का आरोप है कि बलेरा गांव में महज 95 कनेक्शन विभाग द्धारा जारी किए गए है। जबकि ग्रामीणों ने बताया है कि उनके गांव में जारी हुए इस लिस्ट में से 45 लोग ही गांव में निवासरत है। जिनके नाम से विभाग ने बिल जारी कि है उन्हें गांव में ही कोई नहीं जानता। जिसपर ग्रामीणों का कहना है जो लोग गांव में ही नहीं रहते उनके बिल हम क्यों जमा करे। जिसपर बरिष्ठ अधिकारीयों ने इसकी जांच कराने की बात कही।

ग्रामीणों ने लाईन मैन मुकेश यादव पर एक बीडियों के जरिए आरोप लगाया है कि लाईनमैन मुकेश आदिवासी बस्ती के एक ट्रांसफार्मर से लाईन फाल्ट कर मात्र अपने घर की लाईट जलाता है। जबकि पूरा गांब अंधकार में डूबा रहता है। जिसके चलते बरसात में पूरे गांव के लोगों को परेशानी हो रही है। ग्रामीणों के इस गुस्सा के चलते आज ग्रामीणों ने जमकर हंगामा मिला। जिसपर बिजली विभाग को पुलिस बुलानी पडी।

पुलिस के सामने ग्राम डेहरवारा के ग्रामीणों से कहा कि 66 हजार बिल बन रहा है। जिसका 10 प्रतिशत 6600 रूपए जमा कराने होते है। परंतु एई ने कहा कि आप 10 हजार जमा कराओगें तभी आपका नया ट्रांसफार्मर जारी हो पाएगा। जिसपर बेचारे भोले भाले ग्रामीणों ने तत्काल 10 हजार रूपए की व्यवस्था की और राशि जमा कराई।

उसके बाद ग्राम बलेरा में 7 लाख 16 हजार रूपए का बिल बकाया सामने आया। जिसपर ग्रामीणों ने बताया कि इसमें 95 कनेक्शन है उसमें 50 कनेक्शन हैे जो कि एक ही व्यक्ति के नाम 2 से 3 बिल थे। जिसपर जेई ने बिल जमा न करने की और इसकी जांच कराकर ट्रांसफार्मर रखबाने की बात कही।