Ads 720 x 90

बडी खबर:भ्रष्टाचार के कारण 16 गोदामों में ठूस गया 27 हजार क्विंटल घटिया चना, नाफेड ने अटकाया किसानो का भुगतान

शिवपुरी। खबर जिले की कलेक्ट्रेट के गलियारो से आ रही है,कि जिले में समर्थन मूल्य पर खरीदा गया चना नाफेड ने अमानक करार कर दिया,इस कारण जिले के किसानो को अटक गया। इसमे कलेक्टर शिवपुरी द्वारा बनाई गई जांची समिति का भ्रष्टाचार भी उजागर हो गया है। और इसका खामियाजा जिले के उन किसानो को भुगतन पड रहा हैं,जिन्होने अपना टंच माल सरकार को सौपा हैं। बताया जा रहा है कि उक्त मुददा विधानसभा में भी उठ सकता हैं कोलारस विधायक वीरेन्द्र रघुवंशी इसकी तैयारी कर रहे है।

जानकारी के अनुसार नाफेड शाखा इंदौर के प्रबंधक ने मप्र सिविल सप्लाईज कॉर्पोरेशन को 4 जुलाई को पत्र जारी किया है। इसमें नाफेड के जांच दल ने शिवपुरी जिले के गोदामों की जांच कराने पर 27 हजार 156 क्विंटल अमानक चना सामने आया है। उक्त चने का भुगतान करीब 13.80 करोड़ रुपए अांका जा रहा है।

यदि काेलारस के श्रीजी गोदाम में मिले अमानक चने काे भी मिला लिया जाता है ताे यह पूरा भुगतान करीब 16 करोड़ रुपए हाेता है। सहकारी समितियों द्वारा अमानक चना खरीदकर गोदामों में भंडारण करवाकर बड़े स्तर पर करोड़ों के फर्जीवाड़े को अंजाम दिया गया है। सोसायटियों के जरिए फर्जीवाड़ा करने वाले लोग राजनैतिक बताए जा रहे हैं। जिसमें जांच दल में शामिल कुछ अधिकारियों की मिलीभगत भी सामने आ रही है।


कलेक्टर के निर्देश पर 4 गोदाम सील, नहीं हुई जांच

नाफेड ने अपने पत्र में चार गोदामों का जिक्र किया है, जिन्हें कलेक्टर ने शिकायत मिलने पर सील करा दिया था। नाफेड का जांच दल चारों गोदामों में रखे चने की जांच नहीं करा सका है। इन गाेदामों में श्रीजी गोदाम क्रमांक-2, महावीर गोदाम क्रमांक-4, बाबा देवपुरी गोदाम और पोहरी के सभी गोदाम शामिल हैं। नाफेड ने आग्रह किया है कि उक्त सील गोदामों को खुलवाया जाए, ताकि चने की गुणवत्ता की जांच कराई जा सके। इसके लिए संयुक्त टीम जांच के लिए शिवपुरी फिर से भेजी जाएगी।

इन एसडब्ल्यूसी गोदामों में अमानक मिला चना
 रायश्री 15/4 गोदाम में 3013 बोरे,रायश्री 11/01 में - 3108 बोरे,बालाजी शिवपुरी- 10/12 में 3056 बोरे,बालाजी शिवपुरी- 10/25 में 3256 बोरे,महादेव शिवपुरी 9/33 में 375 बोरे,श्री गणेश बदरवास 11/02 में 370 बोरे,श्री गणेश बदरवास 11 /03 में 3700 बोरे,गणेश बदरवास 11/06 में- 3800 बोरे,गणेश बदरवास 11/07 में- 3800 बोरे,गणेश बदरवास 11/08 में- 3650 बोरे,
 लुकवासा मंडी बदरवास 14/09 में- 3080 बोरे, बालाजी बदरवास 1201 में- 3080 बोरे,बालाजी बदरवास 12/02 में- 3080 बोरे,बालाजी बदरवास 12/03 में -3360 बोरे,बालाजी बदरवास 12/04 में -3360 बोरे गिर्राजजी वेयर हाउस कोलारस 1/03 में -3552 बोरे
भुगतान हम नहीं करेंगे
शिवपुरी में नाफेड कां जांच दल गया था, जिसने गाेदामाें की जांच की थी। जाे गाेदाम जांच के लिए रह गए हैं, उनकी जांच के लिए हम अलग से दल भेजेंगे। अमानक चना का भुगतान हम नहीं हाेने देंगे। इसके लिए सिविल सप्लाई कॉर्पोेरेशन को हमने पत्र भेज दिया है।
अभिषेक कुमार, ब्रांच मैनेजर, नाफेड, मुख्यालय इंदौर

हमें कोई पत्र नही मिला है
नाफेड की टीम जांच के लिए आई थी। उन्होंने क्या जांच की है, हमें कुछ जानकारी नहीं है। आप जिस पत्र की बात कर रहे हैं, उसकी हमें कोई जानकारी नहीं है। अन्य जानकारियां सार्वजनिक नहीं की जा सकती हैं।
पीयूष माली, डीएम, नागरिक आपूर्ति निगम

भुगतान नहीं रोका जा सकता
नाफेड के सर्वेयरों द्वारा समर्थन मूल्य पर खरीदी की गई है। इस तरह भुगतान नहीं रोका जा सकता। नाफेड के जांच दल काे कहां-कहां अमानक चना मिला है, हम इस मामले को दिखवाएंगे। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
अनुग्रहा पी., कलेक्टर शिवपुरी