बड़ी खबर: पुलिस ने की नपा से फिनोलक्स के नाम की नकली केवल, मंगल पाईप पर कसा शिंकजा | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। पुलिस ने नगर पालिका शिवपुरी में फिनोलेक्स कम्पनी के नाम पर सप्लाई की गई लाखों रुपए की नकली केवल आज जब्त कर ली यह कार्यवाही पिछले जनवरी माह से प्रतिक्षित थी, पुलिस ने इस नकली केवल को शील्ड किए गए स्टोर से वरामद कर जब्ती में ले लिया। यह कार्यवाही इंदौर और पूना से आई जांच रिपोर्ट के बाद संस्थित की गई है जिसमें केवल को नकली बताया गया है।

यहां बता दें कि नपा के कर्ताधर्ताओं ने लाखों रुपए की अमानक केबल खरीदकर नपा को ही लाखों रुपए का चूना लगाया था, नपा में केबल खरीदने के बाद जब इसे नलकूप की मोटरों में डाला गया तो यह केबल आए दिन बस्र्ट होने लगी, जिसे लेकर इसे जब पूर्व सीएमओ ने केबल को जांच के लिए इंदौर की फिनोलेक्स कंपनी के पास भेजा तो कंपनी ने कहा कि यह अमानक केबल है।

इसे कंपनी से नहीं खरीदा गया है और यह दिल्ली मेड केबल है। जब यह जांच रिपोर्ट नपा के पास आई तो आनन फानन में पहले तो इस पर पर्दा डालने का प्रयास किया गया लेकिन बाद में सप्लायर फर्म के विरुद्ध कार्रवाई के लिए दबाव बना तो मंगल पाईप के विरुद्ध ईजीनियर आरडी शर्मा की रिपोर्ट पर से एफआईआर दर्ज कराई गई।

शाम 6 बजे पहुंची पुलिस टीम ने जब्त किए बण्डल-
नगर पालिका के बहुचर्चित केबल घोटाले में आज 6 बजे उस समय बड़ी कार्यवाही अंजाम दी गई जब कोतवाली पुलिस ने नगर पालिका के स्टोर रूम पर आमद दर्ज करते हुए वहां पहले से शील्ड रूम में रखी केबिल के बण्डलों को जब्त कर लिया। यह कार्यवाही कोतवाली टीआई के निर्देशन में विवेचक एएसआई रामचंद्र शर्मा ने की। इस कार्यवाही के दौरान पुलिस ने 4 एमएम के 3 और 6 एमएम के 10 बण्डल कुल 13 बण्डल केबिल जब्त की। पुलिस ने इस दौरान 5-5 मीटर दोनों प्रकार की केबिल के सैम्पल भी मिलान हेतु अपने पास रखे।

नगर पालिका में 6 बजे जैसे ही पुलिस पहुंची वहां अफरा तफरी का माहौल निर्मित हो गया, पुलिस ने पहले से शील्ड स्टोर रूम का ताला केबिल घोटाले में गबाह बने पूर्व नपा उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ पार्षद भानु दुबे, रेखा गब्बर परिहार, डिम्पल जैन के समक्ष तोड़ा और केबिल को बण्डलों को कपड़ों में शील्ड करवाया।

केबिल जब्ती के दौरान इस दौरान पुलिस ने वर्तमान नगर पालिका उपाध्यक्ष अनिल शर्मा अन्नी एवं पूर्व नगर पालिका उपाध्यक्ष वरिष्ठ भानु दुबे को भी गवाह बनाया।

यह था केवल घोटाले का मामला-
वर्ष 2017-18 के लिए नपा में केबल सप्लाई का ठेका विलो रेट में मंगल पाईप एण्ड सेनेट्री द्वारा लिया गया था। ठेके की शर्ताे के अनुसार फर्म को फिनोलैक्स कम्पनी की केबल सप्लाई करनी थी, लेकिन संबंधित फर्म ने ठेेके मेंं बाजार से भी कम रेट पर दर डाले थे, ये केबल नगर पालिका के बोरों में डाली गई। नगर पालिका के शहर में लगभग 500 ट्य्रूबवेल हैं, जिनके माध्यम से मोहल्ले और कॉलोनियों में पेयजल सप्लाई किया जाता है।

इन बोरों में डाली जाने वाली मोटर एवं केबल की नगर पालिका द्वारा टेंडर बुलाकर की जाती है। बोरों की केबल आए दिन फुंकने लगी और केबल फुंकने के कारण मोटरे भी बस्र्ट होने लगी, नगर पालिका प्रशासन ने जब केबल और मोटर डालने वाले संबंधित ठेकेदारों से इसका कारण पूछा तो उन्होंने केबल नकली होने की आशंका व्यक्त की।

नगर पालिका अधिकारियों ने बताया कि उक्त फर्म द्वारा 40 लाख की केबल सप्लाई की गई तथा बाद में 5 हजार मीटर 6 एमएम की जिसका मूल्य 7 लाख 35 हजार रूपए तथा 1700 मीटर 4 एमएम की जिसका मूल्य 2 लाख 49 हजार रूपए है, का ऑर्डर संबंधित फर्म को दिया गया। उक्त केबल जब नगर पालिका में आई तो सीएमओ राय ने उसका परीक्षण करने के लिए केबल का हिस्सा काटकर सेम्पल लेबोरेटरी में भेज दिया।

बताया जाता है कि लेबोरेटरी में उक्त केबल अमानक स्तर की पाई गई तथा फिनोलैक्स कम्पनी ने कहा कि यह केबल उनकी नहीं है तथा केबल पर कम्पनी की फर्जी सील  लगाकर सप्लाई की गई है। बताया जाता है कि उक्त दिल्ली मेड नकली केबल सप्लाई कर दी गई। जिसके कारण केबल आए दिन  फुंक रहीं थी और मोटरे बस्र्ट हो रही थी।

इसके बाद मुख्य नगर पालिका अधिकारी सीपी राय ने संबंधित ठेकेदार को नोटिस भेजकर उन्हें बताया कि उनके द्वारा नकली केबल सप्लाई की गई है लेेकिन ठेकेदार ने इंकार किया कि उक्त केबल उनके द्वारा सप्लाई नहीं की तथा उन्होंने मई के बाद कोई केबल सप्लाई नहीं की।

ठेकेदार का कहना है कि नगर पालिका के गठजोड़ से उनके नाम का गलत इस्तेमाल कर केबल सप्लाई की गई है। उधर नगर पालिका ने संबंधित फर्म की अमानत राशि जप्त करने के आदेश दे दिए हैं फर्म पर अमानक नकली केबल सप्लाई करने पर