SHIVPURI NEWS - पानी के लिए संघर्ष, पार्षदो ने पंप कर्मचारी का बंधक, कंपनी ने पैसे के लिए शहर को प्यासा रखने की चेतावनी जारी की

Bhopal Samachar

शिवपुरी। शिवपुरी शहर में पानी के लिए संघर्ष शुरू हो चुका है। अभी तक जनता पानी के लिए संघर्ष कर रही थी लेकिन पार्षद भी अब संघर्ष कर रहे है क्यो कि अब पार्षद दूसरे वार्ड में जा रहे पानी की सप्लाई अपने हाथो से बंद कर कर अपने वार्ड में खोल रहे है। कुछ ऐसा ही मामला शहर की मोती बाबा की टंकी से मिल रही है। यह आरोप है कि पार्षदों ने पंप कर्मचारी को बंधक बना लिया,इस अवसर को भुनाते हुए ओम कंस्ट्रक्शन कंपनी ने अपने भुगतान मांग कर डाली और भुगतान नही मिलने पर शहर की प्यासा रखने की चेतावनी भी नगर पालिका सीएमओ को लिखित में दे डाली।

गर्मी के कारण पानी की मांग बढ़ गई है। वहीं दूसरी तरफ पानी उपलब्ध कराने वाले स्त्रोत बंद होते जा रहे हैं। वाटर लेवल तेजी से नीचे गिरने की वजह से ट्यूबवेलों में भी पानी का प्रेशर कम हो गया। चांदपाठा के घसारही से फिल्टर प्लांट होकर शहर में आने वाली सप्लाई भी पिछले पांच दिन से बंद है, क्योंकि चांदपाठा से पानी नहीं मिल रहा। ऐसे में जिन क्षेत्रों में पुराने फिल्टर प्लांट से पानी मिलता है, वे भी अब पूरी तरह से मड़ीखेड़ा की सिंध जलावर्धन योजना पर आश्रित हो गए। सिंध से आने वाले पानी को अपने-अपने एरिया में ले जाने के लिए पार्षदों के बीच तनातनी चल रही है, क्योंकि पानी के लिए परेशान जनता, पार्षदों के घर जाकर उल्टा- सीधा बोल रही है।

फिजिकल संपवेल पर ओम कंस्ट्रक्शन कंपनी का फील्ड स्टाफ बहादुर कुशवाह तैनात है। यहां पर संपवेल के अलावा मोती बाबा पानी की टंकी के माध्यम से आसपास के 5 वार्डों में सप्लाई होती है। पंप कर्मचारी कुशवाह ने रात को संपवेल से सप्लाई दे रहा था, इसी बीच वार्ड 30 के पार्षद कमल किशोर शाक्य, पार्षद पति मुकेश बाथम सहित अन्य स्थानीय लोग वहां पहुंच गए। उनका कहना था कि मड़ीखेड़ा की लाइन से मोती बाबा पानी की टंकी भरी जाए, क्योंकि हमारे क्षेत्र में 5-6 दिन से पानी नहीं आया। जबकि पंप कर्मचारी संपवेल को भरकर उससे दूसरे वार्डों को सप्लाई दे रहा था। इसी बात पर कहासुनी हो गई । बहादुर का आरोप है कि पार्षदों ने मुझे बंधक बनाने के साथ ही धमकाया भी।

ओम कंस्ट्रक्शन ने पानी बंद करने की दी धमकी

सिंध जलावर्धन योजना का काम देख रही ओम कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रोपराइटर महेश मिश्रा ने नपा सीएमओ को जो पत्र दिया है, उसमें उल्लेख किया है कि अध्यक्ष समर्थित 5-6 पार्षदों ने गुरुवार की रात को मोती बाबा ओएचटी पर एकत्रित होकर हमारे फील्ड स्टाफ से जबरदस्ती पानी की सप्लाई डायवर्ट करवाई तथा उसे बंधक बना लिया। जबकि इतने अधिक तापमान में भी हमारे फील्ड कर्मचारी पानी की आपूर्ति करने के लिए पूरी मेहनत से काम कर रहे हैं, लेकिन इस तरह की घटनाओं से वे असुरक्षित महसूस कर रहे है, तथा उनका वेतन भुगतान भी नहीं हुआ है। यदि दो दिन में स्टाफ सुरक्षा व लंबित भुगतान नहीं किया तो हम जल सप्लाई की सभी गतिविधियां बंद कर देंगे।
 

हम तो टंकी भरने की कहने गए थे

हमारे वार्ड में मोती बाबा टंकी से सप्लाई होती है। यह टंकी मड़ीखेड़ा एवं चांदपाठा से भरती है, चांदपाठा की लाइन 5 दिन से बंद हो गई, तो वार्ड में जलसंकट गंभीर हो गया। हम तो टंकी भरने की बात कहने गए थे, कर्मचारी संपवेल से सप्लाई दे रहा था। हमने कोई अभद्रता नहीं की और न ही बंधक बनाया, क्योंकि हम जनप्रतिनिधि हैं, क्रिमिनल नहीं। कमल किशन शाक्य, पार्षद वार्ड 30

मैं भी पहुंच गया था रात में

विवाद की सूचना मिलने पर मैं व एसडीएम शिवपुरी भी पहुंच गए थे। चांदपाठा वाली सप्लाई न आने से इस बार टंकी नहीं भर पाई। पानी की मांग अधिक है तथा आपूर्ति उतनी ही है। टंकी पर हम पहुंचे तो वहां हमें बंधक तो कोई नहीं मिला। वहीं सुरक्षा व कंपनी के भुगतान की मांग वाली फाइल दिखा कर पेमेंट करवाएंगे।
डॉ. केएस सगर, सीएमओ नपा शिवपुरी
G-W2F7VGPV5M