SHIVPURI NEWS - डॉ मान बहादुर के पास 2 राज्यों के मूल निवासी, एक साथ दो जगह लाभ, आयुक्त को शिकायत

Bhopal Samachar

काजल सिकरवार @ शिवपुरी। शिवपुरी के राजमाता विजयाराजे सिंधिया चिकित्सा महाविद्यालय में फर्जी नियुक्तियों का मामला रुक नहीं रहा है। इससे पूर्व फर्जी नियुक्तियों का मामला विधानसभा तक में सुनाई दिया था। अब दो स्टेट के जाति प्रमाण पत्रो का मामला सामने आ रहा है। इस मामले की शिकायत आयुक्त चिकित्सा शिक्षा भोपाल को की जा चुकी और बताया जा रहा है कि इस मामले में उच्चस्तरीय जांच भी शुरू हो चुकी है।


जानकारी के अनुसार शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में सहायक प्राध्यापक के पद पर कार्यरत डॉ मान बहादुर राजपूत की वित्तीय अनिमितताए ओर मप्र और उत्तर प्रदेश के जाति प्रमाण पत्र होने से लाभ लेने की शिकायत आयुक्त चिकित्सा शिक्षा भोपाल को की है।

डॉ मान बहादुर राजपूत ने सैफई चिकित्सा महाविद्यालय उत्तर प्रदेश में अन्य पिछड़ा वर्ग कैटेगरी से नौकरी प्राप्त करने हेतु आवेदन किया एंव इनके द्वारा गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय ग्वालियर में अन्य पिछड़ा वर्ग कैटेगरी से छात्रवृत्ति प्राप्त की गई है,परंतु महोदय समान कैटेगरी से आरक्षण एवं छात्रवृत्ति के लिए व्यक्ति को राज्य का मूल निवासी होना आवश्यक है। लेकिन कैटेगरी से दो भिन्न राज्यों में आरक्षण का लाभ प्राप्त किया गया है। जो कि व्यवहारिक रूप से संभव नही है क्योकि एक व्यक्ति दो राज्यों के मूल निवासी नहीं हो सकता है। शिकायत कर्ता ने दावा किया है कि डॉ मान बहादुर ने गलत तरीके से आरक्षण का लाभ लिया है। भोपाल शिक्षा चिकित्सा आयुक्त को शिकायत कर्ता ने डॉ मनबहादुर के दो राज्यों के मूल निवासी एक मप्र के छतरपुर जिले से बना है दूसरा उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले से बना है।बताया जा रहा है कि इस शिकायत के बाद संचालनालय ने जांच शुरू कर दी है।

इनका कहना है
यह संचानालय की गोपनीय शिकायत थी,आपके पास कहा से आई संशय का विषय है। जांच समिति ने जो मेरे वक्तव्य ले लिए है,इस विषय में और आगे कुछ नहीं कह सकता हूं।
डॉ मान बहादुर राजपूत,मेडिकल कॉलेज शिवपुरी 
G-W2F7VGPV5M