SHIVPURI NEWS - मेडिकल कॉलेज में पदस्थ डॉक्टरों की सीआर बुक गायब, 16 से काम बंद की चेतावनी

Bhopal Samachar
शिवपुरी। शिवपुरी शासकीय मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) शिवपुरी में पांच साल का कार्यकाल पूरा कर चुकी फेकल्टी की सीआर (गोपनीय चरित्रावली) रिपोर्ट गायब हो गई है। सीआर रिपोर्ट गायब होने से 16 फैकल्टी को नया ग्रेड-पे (समयमान वेतनमान) नहीं लग पा रहा है। जबकि चिकित्सा शिक्षा मंत्रालय भोपाल से ग्रेड-पे बढ़ाने संबंधी आदेश सितंबर 2023 में जारी हो चुका है।

जीएमसी शिवपुरी डीन ने अभी तक आदेश का पालन नहीं कराया है। कॉलेज टीचर्स एसोसिएशन ने 15 मार्च तक का समय दिया है। जल्द ही नया ग्रेड-पे नहीं लगा तो 16 से काम बंद करने की चेतावनी दी है। जानकारी के मुताबिक जीएमसी शिवपुरी में कार्यरत चिकित्सा शिक्षकों का समयमान/वेतनमान निर्धारण करना है।

गोपनीय चरित्रावली के आधार पर संबंधित चिकित्सा शिक्षकों का ग्रेड-पे निर्धारित होना है। कॉलेज के संबंधित विभागों के एचओडी (विभागाध्यक्ष) साल 2022-23 की सीआर रिपोर्ट डीन को भिजवा चुके हैं। लेकिन फेकल्टी की सीआर रिपोर्ट गायब हो गई है, जिससे संबंधित चिकित्सा शिक्षकों का समयमान वेतनमान का लाभ नहीं मिल सका है।

बता दें कि चिकित्सा शिक्षा विभाग मंत्रालय भोपाल 29 सितंबर 2023 को आदेश जारी का चुका है। गोपनीय चरित्रावली (सीआर) रिपोर्ट गायब कैसे हो गई, यह जांच का विषय है। इन फैकल्टी की गोपनीय चरित्रावली (सीआर) रिपोर्ट गायब हुई सहायक प्राध्यापक डॉ. अनिल कुशवंशी (जनरल सर्जरी), डॉ. धीरेंद्र कुमार सचान (रेडियोथेरेपी), डॉ. राजेंद्र सिंह पवैया (फिजियोलॉजी), डॉ. विवेक जैन (बायोकेमेस्ट्री), डॉ. सिरस सिंह धीर (दंत रोग) और प्रदर्शक डॉ. भरत बाथम (बायोकेमिस्ट्री), डॉ. भीम प्रकाश गौतम (फिजियोलॉजी), डॉ. सीपी जायसवाल (पैथोलॉजी), डॉ. शिल्पा मोटघरे (पैथोलॉजी), डॉ. गौरव शर्मा (पैथोलॉजी), डॉ. संगीता सिंघल गुप्ता (सामुदायिक चिकित्सा), डॉ. शैलेंद्र रावल (सामुदायिक चिकित्सा), डॉ. पवन कोरकू (सामुदायिक चिकित्सा), डॉ. मुकेश गुर्जर (फार्माकोलॉजी), डॉ. डोंगर सिंह प्रजापति (फॉरेंसिक मेडिसिन), डॉ. जितेश गुजारिया (फॉरेंसिक मेडिसिन) शामिल है। दो फेकल्टी की 3 साल की सीआर रिपोर्ट गायब कर दी गई डॉ. डोंगर सिंह प्रजापति और डॉ. भीम प्रकाश गौतम की साल 2019-20, 2021-22 व 2022-23 की सीआर रिपोर्ट गायब है।

डॉ. सिर सिंह धीर की साल 2019-20 की सीआर रिपोर्ट गायब हो गई है। पुलिस में आवेदन तक नहीं दिया मेडिकल कॉलेज से फेकल्टी के सीआर जैसा महत्वपूर्ण रिकार्ड गायब होना अपने आप में अपराध है। सरकारी रिकार्ड गायब होने पर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराना तो दूर कॉलेज प्रबंधन ने आवेदन तक नहीं दिया है। इसके चलते मेडिकल कॉलेज की कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान उठाए जा रहे हैं।

कॉलेज फेकल्टी की सीआर रिपोर्ट गायब होने पर क्या कदम उठाए हैं, जब यह जानने जीएमसी डीन डॉ केबी वर्मा को कॉल किया तो उन्होंने रिसीव नहीं किया । मैसेज करने पर भी कोई जवाब नहीं आया।

15 तारीख तक का समय दिया है, फिर काम बंद ^चार माह पहले ऑर्डर आया था, फिर भी डीन बैठे रहे। मैंने दो-तीन बार पत्राचार भी किया, जिसका जवाब भी नहीं दिया। पदाधिकारियों के साथ मिलने पहुंचे तो जल्दी ही करवाने का आश्वासन दिया। अब सीआर रिपोर्ट नहीं मिलने की बात सामने आ रही है। हमने 15 तारीख तक का समय दिया है, फिर 16-17 फरवरी से काम बंद कर देंगे। -
डॉ. मनबहादुर राजपूत, अध्यक्ष, मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन जीएमसी

G-W2F7VGPV5M