सार्वजनिक रूप से माफी मांगें मंत्री सुरेश राठखेड़ा, क्षत्रिय महासभा की चेतावनी, ब्राह्मण भी सक्रिय- Shivpuri News

शिवपुरी।
पोहरी विधायक और राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा के समधी जगदीश गोबरा के दवारा नशा मुक्ति कार्यक्रम में दारू का नशे में ब्राहम्मण,ठाकुर और वैश्य समाज को सार्वजनिक रूप से गाली ग्लोच करने वाला मामला अब गर्महाट पकड रहा है। हालकि इस मामले बैराड थाने में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के सदस्यो की शिकायत पर जगदीश गोवरा पर मामला दर्ज कर लिया गया है।

राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा के समधी द्वारा क्षत्रिय समाज सहित विभिन्न समाजों के लिए की गई अभद्र टिप्पणी उनकी खुली छूट का नतीजा है इसलिए वह सार्वजनिक रूप से माफी मांगे अन्यथा उग्र परिणाम भोगने के लिए तैयार रहें यह बात अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के जिला अध्यक्ष एसकेएस चौहान ने समाज की आज आयोजित बैठक के दौरान कही। यह आवश्यक बैठक बैराड़ में नशा मुक्ति कार्यक्रम में राज्य मंत्री सुरेश राठखेड़ा के समधी जगदीश गोबरा द्वारा शराब के नशे में धुत्त होकर की गई गाली गलौज के विरोध में आयोजित की गई।

बैठक में बैराड़ का मुद्दा पूरी तरह से गरमाया रहा। क्षत्रिय समाज के लोगों का कहना था कि जिस समय उनके रिश्तेदार द्वारा शराब के नशे में धुत्त होकर क्षत्रिय समाज सहित अन्य समाजों के लिए गाली गलौज की भाषा का इस्तेमाल किया गया उस समय राज्य मंत्री सुरेश राठखेड़ा खुद वहां मौजूद थे जिन्हें इसका विरोध करना चाहिए था।

उन्हें तत्काल प्रभाव से इस प्रक्रिया को लेकर अपने समधी के खिलाफ कार्यवाही करनी चाहिए थी जो नहीं की गई साथ ही साथ थाने में दी जा रही गाली गलौज के बीच पुलिस प्रशासन भी खामोशी का मुद्रा में रहा जिससे सीधा.सीधा स्पष्ट होता है कि मंत्री के रिश्तेदारों को मंत्री का संरक्षण है। पुलिस प्रशासन का मौन साधना भी यह साबित करता है कि उनकी सहमति से इस कार्य को अंजाम दिया गया।

क्षत्रिय समाज ने सीधे तौर पर इस घटना के लिए मंत्री को जिम्मेदार ठहराया। बैठक में मौजूद लोगों का कहना था कि राज्य मंत्री सुरेश राठखेड़ा तीन दिवस के भीतर क्षत्रिय समाज सहित अन्य समाजों से सार्वजनिक रूप से माफी मांगे अन्यथा परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें। क्षत्रिय समाज की इस बैठक में और भी कई कड़े निर्णय लिए गए। बैठक में युवाओं में इस घटना के प्रति तीखा आक्रोश था।

वही अब बताया जा रहा है कि इस गाली गलौज काड मे ब्राह्मण समाज में भी तीखी आलोचना की जा रही है। ब्राह्मण समाज के संगठन में इस मामले में लेकर जल्द ही बैठक कर आगे की रणनीति बना सकते है।