HDFC बैंक में अस्पतालकर्मी के फर्जी डॉक्यूमेंट लगाकर करा लिया ट्रैक्टर फाइनेंस, 11 लाख की रिकवरी- Shivpuri News

हार्दिक गुप्ता@ शिवपुरी।
HDFC बैंक में कोलारस में पदस्थ एक सरकारी कर्मचारी के डॉक्यूमेंट लगाकर एक ट्रैक्टर फाइनेंस कराने की खबर मिल रही है। अब कर्मचारी पर 11 लाख की रिकवरी निकल रही है। कर्मचारी अब बैंक के चक्कर काट रहा है। कर्मचारी अपने बेटे की फीस के खातिर एसबीआई बैंक से पर्सनल लोन लेने गया जब बैंक कर्मियों ने बताया कि आपको लोन नहीं मिल सकता है आपकी सिविल खराब है। जब इस फर्जी कार्ड की जानकारी अस्पताल के कर्मचारी को लगी।

कोलारस के सरकारी अस्पताल के वार्ड बॉय देवेन्द्र गिरी ने बताया कि कोलारस के भारतीय स्टेट बैंक बिदंल मार्केट शाखा में उसकी वेतन का खाता है। सन 2022 में उसने बैंक से 6 लाख 65 हजार का लोन लिया था,जिसकी किस्त उसकी वेतन वाले अकाउंट से कटती है। अब मुझे मेरे बेटे की पढाई के लिए 2 लाख की आवश्यकता और पडी।

मेरा बेटा रिषेश गिरी कोटा में नीट की तैयारी कर रहा है,उसको साल भर फीस 1 लाख 22 हजार रुपए मुझे जमा करनी थी। इस कारण मेरे पर्सनल लोन का बढ़ाने के लिए बैंक गया था बैंक से मेरी बात हो गई थी कि मुझे 2 लाख रुपए और मिल जाऐगा। जब में लॉन अमाउंट बढ़ाने के लिए फाइल पर साइन करने बैंक पहुंचा तो बैंक वालो ने बताया कि आपको लोन नही मिल सकता है,आपकी सिविल खराब है।

मैने कहा की में समय पर लोन की किस्त दे रहा हूं अपने आप वेतन के खाते से कट जाती है तो कैसे सिविल खराब हो सकती है। बैंक कर्मी ने बताया कि आपके नाम पर जो ट्रैक्टर है उसकी किस्त आप जमा नहीं कर रहे है। इस कारण आपकी सिविल खराब हो गई।

जानकारी लेने पर मुझे मालूम हुआ कि मेरे नाम पर एचडीएफसी बैंक में 7 फरवरी 2015 में ट्रैक्टर फाइनेंस हुआ है ट्रैक्टर पर सवा चार लाख का लोन लिया है उसकी एक भी किस्त जमा नहीं हुई इस कारण लोन बढकर 11 लाख के आसपास हो गया है। मुझे बताया गया है कि गुना के बैंक से यह फाइनेंस हुआ है में वहां पहुंचा तो मुझे जानकारी नहीं मिल पाई है। अब मेरा लोन नहीं हो रहा है बेटे की फीस कहां से आएगी,अब देवेन्द्र गिरी पुलिस में इस मामले की शिकायत करने की तैयारी कर रहे है।