5 माह की गर्भवती महिला को आशा कार्यकर्ता ने दी गलत टेबलेट, अस्पताल में भर्ती- kolaras News

कोलारस।
खबर जिले के कोलारस जनपद पंचायत के नेतवास पंचायत के भट्टूआ गांव से मिल रही है कि गांव में निवास करने वाली एक गर्भवती महिला को आशा कार्यकर्ता ने गलत टेबलेट दे दी। गलत टेबलेट खाने के कारण महिला का स्वास्थ्य खराब हो गया उसे कोलारस के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया है।

गर्भवती महिला को दे दी एक्सपायरी दवा

कोलारस स्वास्थ्य केंद्र में अपनी गर्भवती पत्नी कविता का उपचार करा रहे भट्टूआ निवासी मजबूत सिंह रावत ने बताया कि उसकी पत्नी 5 माह की गर्भवती है। पत्नी कविता रावत को आंगनबाड़ी पर पांचवे माह में लगने वाला टीटी का इंजेक्शन एएनएम ने माह के शुरुआती शुक्रवार को लगाया गया था। इस इंजेक्शन के साथ ही आशा कार्यकर्ता सिया रावत उसे फोलिक एसिड की 60 टेबलेट खाने को दी गईं थी।

कई दिनों तक इन टेबलेट खाने के बाद मेरी पत्नी कविता की तबियत बिगड़ गई। उसे इलाज के लिए कोलारस के स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचा था। तब उसे पता चला कि जो टेबलेट उसकी पत्नी खा रही थी वह एक्सपायर हो चुकी है। इसी वजह से उसकी पत्नी की तबीयत बिगड़ी है। जब इसकी शिकायत उसने आशा कार्यकर्ता से की तो उसने मेरी शिकायत अनसुनी कर दी। आशा कार्यकर्ता द्वारा बरती गई लापरवाही की शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर दर्ज कराई थी। जिसे बंद कराने का दबाब भी आशा कार्यकर्ता द्वारा बनाया जा रहा है।

आयरन की गोली में भी बरती गई लापरवाही

इस मामले में एक और खुलासा हुआ है। जिसमें जो आयरन के नाम की एक्सपायरी गोली गर्भवती महिला को थमाई गई थीं। वह गोली तीन माह की गर्भवती महिला को दी जाती है। पांच माह की गर्भवती महिला को आयरन फोलिक एसिड की गोलियां दी जानी थी। जबकि गर्भवती महिला को फोलिक एसिड की एक्सपायरी गोलियां थमा दी गईं।

जांच कराएंगे

कोलारस बीएमओ नरेंद्र दांगी का कहना है कि अगर आशा कार्यकर्ता द्वारा गर्भवती महिला को आयरन की गोली देने में लापरवाही बरती गई है तो उस पर जांच के बाद अवश्य कार्रवाई की जाएगी। साथ ही पांच माह की गर्भवती महिला को आयरन फोलिक एसिड की गोलियां क्यों नहीं दी गई। इसकी भी वह जांच कराएंगे।