Shivpuri News- खदान ठेकेदार, मजदूर की लाश को अस्पताल में फेंक कर फरार, परिजन और पुलिस का पता नही

प्रदीप मोंटू तोमर शिवपुरी। खबर जिला अस्पताल शिवपुरी से आ रही है कि शुक्रवार की रात 10 बजे खदान ठेकेदार अपनी मजदूर की लाश अस्पताल में फेंक कर भाग गया। ठेकेदार का नाम भूरा गुर्जर बताया जा रहा हैं। जब वह अपने मजदूर की लाश को स्ट्रेचर पर रख रहा था तभी किसी और काम से पुलिस की गाड़ी आई तो वह उसे छोड़कर भाग गया।

मजदूर की मौत कैसे हुई परिजनों को भी इसकी जानकारी नहीं है,वह इतना बताया कि वह बीमार है और उसे अस्पताल में भर्ती कराया है,फिलहाल इस मामले की सूचना पुलिस के पास भी नहीं है पुलिस की जांच के बाद ही इस मामले से पर्दा उठेगा कि मजदूर की मौत कैसे हुई है कि वह किसी दुर्घटना का शिकार हुआ है या उसकी हत्या की हैं।

जानकारी के अनुसार जिले के सुरवाया थाना क्षेत्र की सीमा पर में आने वाले खैराना गांव में निवास करने वाला 25 वर्षीय ब्रजेश पुत्र पलुआ आदिवासी पत्थर खदान में मजदूरी का काम करता है,शुक्रवार की सुबह प्रतिदिन की तरह ब्रजेश अर्जुन गंवा की पत्थर खदान पर खदान ठेकेदार भूरा गुर्जर के यहां काम करने गया था,दिन में ब्रजेश खाना खाने घर आया और दोपहर 3 बजे खदान ठेकेदार भूरा गुर्जर खदान से ट्रैक्टर में पत्थर फर्सी भरवाने के लिए घर से अपनी बाइक से ले गया।

पिता ने कहा देर रात फोन आया कि ब्रजेश की तबीयत खराब है

बृजेश के पिता पलुआ ने बताया कि देर रात भुरा गुर्जर का फोन आया कि उसके बेटे ब्रजेश की तबीयत खराब है और वह शिवपुरी के अस्पताल में भती हैं। भूरा का भाई हमें गाड़ी से शिवपुरी लाया,हमने ब्रजेश को देखा तो हमे वहा मरा हुआ मिला था उसकी मौत कैसे हुई है हमें नहीं पता हैं।

ब्रजेश को भूरा गुर्जर अस्पताल छोड कर भागा

ब्रजेश की मां ने बताया कि हमें जानकारी मिली है कि ब्रजेश को भूरा गुर्जर अपनी गाडी से अस्पताल लेकर आया था और उसे छोड़कर भाग गया। उसके बाद हमें फोन पर बताया गया कि तुम्हारा लड़के की तबीयत खराब है और वह अस्पताल में भर्ती हैं। हमें भूरा ठेकेदार का भाई ही अपनी गाड़ी से शिवपुरी लेकर आया था। ठेकेदार के भाई के साथ उसका रिश्तेदार आया था वह ब्रजेश के पापा से बोला था कि तुम ब्रजेश की लाश को ले चलो घर पर लेनदेन कर मामले का निपटा लेगें।

भूरा को परिजनों ने बताया कि वह ट्रैक्टर से गिर गया था उसके बाद उसे जिला अस्पताल लेकर आए थे। बृजेश के शरीर पर चोटों के कोई निशान नहीं है उसके पैरो के पंजो पर छिलने जैसे निशान है जो किसी को घसीटने से बनते हैं।

पुलिस की गाडी देख कर भाग गया था भूरा

अस्पताल में सुरक्षा कर्मियों का कहना था कि देर रात एक लाल गाड़ी से कुछ लोग एक युवक को लेकर आए और उसे उतार कर स्ट्रेचर पर रखा तब तक पुलिस की गाडी आ गई तो उसे देखकर वह भाग गए।

मौसी ने बताया कि चार लडके और थे अब वह बता नहीं रहे

बृजेश की मौसी ने बताया कि ब्रजेश के साथ हमारे समाज और हमारे ही गांव खैराना के चार और लडके हल्ला,आकाश,छोटे ओर प्रभु भी काम कर रहे थे वह भी इस घटना के विषय में कुछ नहीं बता रहे हैं।

इस मामले में कई सवाल उठ रहे कि अगर बृजेश का एक्सीडेंट हुआ है और वह ट्रैक्टर से गिर कर मरा हैं तो संबंधित थाने में घटना की सूचना क्यो नही दी गई। वही ब्रजेश की इस अवस्था में छोड़कर क्यों उसका ठेकेदार भाग गया और पुलिस की गाडी को देखकर उसने भागने का प्रयास क्यो किया,फिलहाल इस मामले की सूचना पुलिस के पास भी नहीं हैं। अस्पताल प्रबंधन ने ब्रजेश की लाश को पीएम के लिए पीएम हाउस भेज दिया है। बृजेश के परिजन आगे की कार्यवाही का इंतजार कर रहे हैं।