Shivpuri News- माधव चौक चौराहे पर तंबू गाड़ कर बैठे संविदा स्वास्थ्य कर्मी, कर्मचारी कांग्रेस ने भी दिया समर्थन

शिवपुरी।
संविदा शोषण नीति के खिलाफ अब संविदा कर्मी अब सरकार से दो दो हाथ करने के मूड में आ गए है। शिवपुरी जिले के संविदा स्वास्थ्यकर्मी पिछले 5 दिन से हड़ताल पर चले गए जिससे जिले की ग्रामीणों क्षेत्रों की स्वास्थ्य सुविधाएं वेंटिलेटर पर आ चुकी है। शिवपुरी जिले के संविदा स्वास्थ्यकर्मी आज माधव चौक चौराहे पर अनिश्चितकालीन हड़ताल करते हुए आज से धरने पर बैठ गए हैं

जैसा कि विदित है कि 16 दिसंबर से जिले के संविदा स्वास्थ्यकर्मी हड़ताल पर चले गए हैं। इससे शिवपुरी जिले के लगभग सभी सीएचओ केंद्रों पर ताले लटक चुके हैं,इससे ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाएं धराशाई हो गई हैं। वही नियमित कर्मचारियों पर काम का लोड अधिक हो गया है जिससे वह तनाव की ओर अग्रसर हैं।

नियमित कर्मचारियों पर काम प्रेशर, नहीं वैकल्पिक व्यवस्था

काम के लोड के प्रेशर में खोड प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ तन्वी की आत्महत्या कर ली। तन्वी नियमित कर्मचारी थी और इसके अतिरिक्त खोड के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर 4 नर्सों की पदपथ ना थी जिसमें 3 संविदा कर्मचारी थी जो हड़ताल पर चली गई है। केवल तन्वी अकेली बची थी जो पिछले 4 दिनों से ओवरलोड काम कर रही थी इस कारण वह प्रेशर में आ गई और अत्यधिक नींद की गोलियों का सेवन कर लिया जिससे उसकी मौत हो गई। हालांकि इस बात से इंकार कर रहे है कि काम का प्रेशर था लेकिन सवाल अभी भी खड़ा है वहां वैकल्पिक व्यवस्था नहीं थी।

नियमित कर्मचारी भी काम के शोषण का शिकार

तन्वी का केस शिवपुरी के स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए चुनौती है,क्योंकि जो खोड प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के हालात है ऐसे हालात कई स्वास्थ्य केंद्रों पर होगा जहां नियमित कर्मचारी आवरलोड ड्यूटी कर रहे हैं अगर वैकल्पिक व्यवस्था की बात करे तो संभव नहीं है नियमित कर्मचारियों की संख्या कम हैं अब नियमित कर्मचारी भी शोषण का शिकार हो रहा है वही स्वास्थय सेवाए किसी भी हालत में रोकी नही जा सकती हैं कोई की हर जान किमती हैं।

कर्मचारी कांग्रेस ने दिया समर्थन, धरना स्थल पर पहुंचे अध्यक्ष

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों को धीरे धीरे अन्य कर्मचारियों संगठन का भी समर्थन प्राप्त हो रहा है। पिछले दिनों आशा कार्यकर्ताओं ने अपना समर्थन अपनी मांगो को लेकर आंदोलन की राह पर निकले संविदा कर्मचारियों को अपना समर्थन दिया था आज कर्मचारी कांग्रेस ने धरना स्थल पर पहुंचकर अपना समर्थन दिया। कर्मचारी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष नागेन्द्र रघुवंशी ने कहा कि संविदा व्यवस्था को मामा में शोषण की नीति कहकर निरूपित किया था लेकिन वापस सत्ता में आते ही वह अपने इस वाक्य को भूल गए,अब मामा को यह शोषण की नीति को समाप्त करना होगा,वही कर्मचारी कांग्रेस इन संविदा स्वास्थ्य कर्मियों के साथ हैं।

जिले में 550 सविदा कर्मचारी हडताल पर, तीन जगह बैठे हडताल पर

शिवपुरी जिले में 550 सविंदा कर्मचारी हडताल चले गए हैं इससे जिले में 2 सैकडा से अधिक प्राथमिक केन्द्र पर ताले लटके हैं। वही टीकाकरण,नसबंदी,ओपीडी,टेलीमेडिसिन,चेतना एप,अनमोल एप और पत्राचार तक के काम बंद हो चुके हैं। अगर यह धरना प्रदर्शन बंद नहीं हुआ और संविदा कर्मचारी अपने काम पर वापस नहीं लौटे तो आगे की स्थिति भयानक होती हैं और उधर संविदा कर्मचारियों का कहना है कि हमारी जब तक 2 सूत्री मांगे पूरी नही होगी जब तक हम वापस नहीं होगें। शिवपुरी जिले में पिछोर और खनियाधाना में संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी धरने पर बैठे हैं यह कर्मचारी प्रतिदिन शिवपुरी नही सकते है इसलिए स्थानीय स्तर पर ही आंदोलन में भाग ले रहे हैं।