Shivpuri News- महिला का शव पड़ा रहा 24 घंटे पीएम हाउस में, हंगामें के बाद हुआ पीएम

शिवपुरी। जिला अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के फलस्वरूप एक आदिवासी महिला का शव 24 घंटे तक डेड हाउस में पीएम के इंतजार में पड़ा रहा। महिला के परिजन पीएम का इंतजार करने के बाद परेशान हुए तो उन्होंने विरोध दर्ज कराया।

जिसके फलस्वरूप 24 घंटे बाद विवाहित महिला मंजेश आदिवासी का पीएम संभव हो सका। इस मामले में महिला के परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन का लापरवाही का आरोप लगाया। बड़ौदी निवासी मंजेश की संदिग्ध परिस्थिति में मौत हुई थी, जिसके कारण उसका पीएम कराना पड़ा था।

30 वर्षीय मंजेश पत्नी महेंद्र आदिवासी की संदिग्ध परिस्थिति में उस समय मौत हो गई, जब वह घर में नहा रही थी। परिजन उसे अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने आशंका जताई थी कि मंजेश की मौत सांप के काटने से हुई है।

लेकिन स्पष्ट रूप से वह कुछ नहीं बता सके जिस पर पुलिस ने मामले को संदिग्ध माना और शव का पीएम कराने के लिए पीएम हाऊस भेज दिया। सोमवार को शव मुर्दाघर में रखवा दिया, लेकिन मंगलवार तक महिला का पीएम नहीं हुआ। इस दौरान परिजन शव लेने के लिए दिन और रात पीएम हाउस के बाहर बैठे रहे,

कई बार उन्होंने डॉक्टर से पीएम कराने के लिए कहा, लेकिन कोई डॉक्टर वहां नहीं पहुंचा। मंगलवार शाम को परिजनों ने कड़ी आपत्ति जताई तब जाकर डॉक्टर पीएम करने पहुंचा और शाम को शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

इनका कहना है
मंजेश आदिवासी का पीएम इस कारण नहीं हो सका क्योंकि अस्पताल प्रबंधन को आवश्यक दस्तावेज नहीं मिले। मंगलवार की दोपहर जब दस्तावेज मिले, इसके बाद डॉक्टरों को पीएम कराने भेज दिया गया था। महिला का पीएम हो चुका है।
डॉ. संतोष पाठक
आरएमओ, जिला अस्पताल