शिवपुरी में SDM के आदेश से स्कूलों में पढ़ाई चौपट, आयुक्त के आदेश के विपरीत काम- Shivpuri News

शिवपुरी।
शिवपुरी जिले में अधिकारी सरकारी आदेशों को ठेंगा दिखा रहे हैं। मामला बच्चो की पढाई से जुडा हैं,सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों की लगातार पढाई प्रभावित हो रही हैं कारण एसडीएम ऑफिस से ऐसे शिक्षकों को बीएलओ बना दिया हैं जो गणित, अंग्रेजी और विज्ञान विषय के शिक्षक हैं। इस कारण बच्चो की इन मुख्य विषयों को पढाई प्रभावित हो रही हैं। वहीं इस मामले में लोक शिक्षण आयुक्त द्वारा साफ तौर पर जिले के सभी कलेक्टर और जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजकर विद्यालयों से ऐसे शिक्षकों को बीएलओ कार्य से मुक्त रखने के आदेश दिए हैं।

खास बात यह है कि ऐसे BLO की संख्या शिवपुरी जिले में सबसे ज्यादा है जिनके बीएलओ वन जाने से स्कूलों में इन विषयों की पढ़ाई चौपट हो गई है। इस तरह से जिले में सरेआम आयुक्त के आदेश की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। चंदनपुरा मिडिल स्कूल में गणित के शिक्षक हैं, लेकिन उनका बीएलओ बना दिया है। इसके बाद अब यहां पर गणित विषय का कोई शिक्षक नहीं बचा है। इसी तरह माध्यमिक विद्यालय हातौद में भी गणित के शिक्षक को बीएलओ का काम दे दिया गया है। राजश्री के हाई स्कूल में भी अंग्रेजी के शिक्षक को कुछ दिनों पहले BLO बना दिया है।

यह स्थिति जिले के कई स्कूलों में है। हासे स्कूल मुढ़ेरी में अंग्रेजी के वरिष्ठ अध्यापक हैं और पांच साल से BLO हैं। कई शिक्षक इसमें ऐसे भी हैं जिन्हें अधिकारियों द्वारा BLO बना दिया गया है जबकि कुछ ऐसे भी हैं जो स्वेच्छा से बीएलओ वन बैठे हैं जिससे नियमित स्कूल न जाना पड़े।

सिर्फ शिवपुरी ब्लाक में करीब तीन सैकड़ा शिक्षक, परीक्षाएं प्रभावित

विभाग से जुड़े लोगों की मानें तो सिर्फ शिवपुरी ब्लाक में ही करीब तीन सैकड़ा शिक्षकों को बीएलओ का काम दिया गया है। इसमें भी करीब आधे मुख्य विषयों के शिक्षक हैं। अभी दिसंबर तक निर्वाचन संबंधित अभियान चल रहा है जिससे यह इसमें जुटे हुए हैं। दूसरी ओर मुख्य विषयों के शिक्षक नहीं होने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

वर्तमान में प्राइमरी और मिडिल स्कूल की छमाही परीक्षाएं चल रही है। वहीं एक दिसंबर से हाई स्कूल व हायर सेकेंडरी की छमाही परीक्षाएं शुरू होना है। इसके बाद मार्च में बोर्ड व मुख्य परीक्षाएं आ जाएंगी। ऐसे में शिक्षक स्कूल नहीं जाएंगे तो इसका नुकसान बच्चों को उठाना पड़ेगा। गणित, साइंस और अंग्रेजी ऐसे विषय हैं जिनमें बच्चों को अधिक ध्यान देने की जरूरत पड़ती है और उन्हीं के विषयों के शिक्षक उपलब्ध नहीं हैं।

यह है आयुक्त का आदेश

लोक शिक्षण संचालनालय भोपाल के आयुक्त द्वारा इस संबंध में साफ तौर पर सभी कलेक्टर और जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजकर निर्देश दिए गए हैं कि सभी स्कूलों में गणित, विज्ञान व अंग्रेजी के शिक्षकों की कमी है। इन विषयों के शिक्षकों को बीएलओ कार्य में लगाए जाने से विद्यालय में अध्यापन कार्य पर विपरीत असर पड़ रहा है।

आरटीआई की धारा 27 के तहत शिक्षकों की ड्यूटी सिर्फ राष्ट्रीय आपदा, निर्वाचन व राष्ट्रीय जनगणना कार्यक्रम में लगाए जाने की छूट दी गई है। इसलिए उक्त विषय के शिक्षकों को बीएलओ कार्य से मुक्त रखा जाए जिससे विद्यालयों में गणित, अंग्रेजी व विज्ञान विषय का पठन.पाठन प्रभावित ना हो सके।