Shivpuri News- शहर को ढाई करोड़ का चूना लगाने वाला चाय वाला गिरफ्तार,करौली में छुपा था

शिवपुरी। खबर शहर के सिटी कोतवाली से आ रही हैं कि शहर को ढाई करोड़ का चूना लगाकर फरार हुआ चाय वाला पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया हैं। बताया जा रहा है कि चाय वाला राजस्थान के प्रसिद्ध करौली जिले के कैला देवी मंदिर के पास स्थित दीपक लॉज से बीती रात गिरफ्तार कर लिया है। जिसे शनिवार को पुलिस शिवपुरी लेकर पहुंची।

पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह शिवपुरी से भागने के बाद जयपुर अपने रिश्तेदार के यहां पहुंचा जहां से वह करौली चला गया। करौली के कैला देवी मंदिर के पास दीपक लॉज में छिपकर रह रहा था। शिकायत के बाद पुलिस दीपक की तलाश में जुटी हुई थी इसी दौरान पुलिस को दीपक की लोकेशन मिल गई और सिटी कोतवाली से गई तीन सदस्यीय टीम ने आरोपी दीपक को कॉलेज से दबोच लिया।


जैसा विदित है जानकारी के मुताबिक दीपक अग्रवाल पुत्र स्वर नारायण अग्रवाल निवासी विष्णु मंदिर के पीछे मोहन नगर शिवपुरी के खिलाफ 12 दुकानदारों ने पुलिस थाने में शिकायत की है। दुकानदारों का कहना है कि दीपक अग्रवाल छतरी रोड पर विष्णु मंदिर के सामने सेंगर बिल्डिंग में दीपक ट्रेडर्स एवं आरव लौटाने नाम से सीमेंट का व्यवसाय करता है।

सीमेंट खरीदने दीपक को 12 लोगों ने 1 करोड़ 79 लाख 5 हजार रुपए दिए थे। उक्त राशि के एवज में दीपक को सीमेंट देना था। लेकिन तयशुदा समय में सीमेंट नहीं दिया बल्कि टालमटोल करता रहा। कई दिनों तक इंतजार किया। दीपक से माल देने अथवा राशि लौटाने के लिए कहा तो दीपक कुछ दिन में लौटने का वादा किया। दुकानदारों का कहना है कि 25 सितंबर से दीपक अग्रवाल ना तो उसकी दुकान पर मिला और ना ही उसके घर पर मिला।

पत्नी ने बताया कि वह घर नहीं है और कहां गए हैं, इसकी भी जानकारी नहीं है। दोनों मोबाइल नंबर पर कॉल करके संपर्क करने की कोशिश की तो दोनों ही स्विच ऑफ आ रहे हैं। सभी ने दीपक के खिलाफ धोखाधड़ी के तहत केस दर्ज करने की मांग की है।

कौन है दीपक अग्रवाल

विष्णु मंदिर के सामने नाले के पास एक छोटी गुमटी में चाय की दुकान है। इस दुकान पर 2 भाई बैठते थे इस दुकान का छेाटा मालिक दीपक अग्रवाल हैं जो शहर को ढाई करोड़ का चूना लगाकर फरार हो गया हैं। दीपक ने सबसे पहले विष्णु मंदिर सीमेंट की दुकान खोली जिसमें मिनी प्लांट की सीमेंट बेचना शुरू किया,उसके बाद बड़े ब्रांड की सीमेंट बेचना शुरू कर दी।

पहचान वालो लोगो का कहना है कि दीपक को घाटा होने का कोई कारण कही से दिख नहीं रहा। उसकी लाइफ स्टाइल भी सामान्य थी। टू व्हीलर मेंटेंन करता था उस पर कोई फोर व्हीलर गाड़ी भी नहीं थी।

मोबाइल लोकेशन से पकड़ा गया शातिर

ढाई करोड़ रुपए लेकर फरार हुए दीपक की गिरफ्तारी के लिए कोतवाली टीआई सुनील खेमरिया ने एसआई दीपक पालिया के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया। जिसमें सायबर सेल की सहायता से आरोपी की लोकेशन ट्रेस की। लोकेशन जयपुर के सीतापुर के पास मिली। जिसके बाद टीम शिवपुरी से जयपुर के लिए रवाना हुई, लेकिन आरोपी ने अपनी लोकेशन बदल ली और वह करौली पहुंच गया।

यहां से आरोपी कैलादेवी पहुंचा जहां उसने दीपक लॉज में एक कमरा किराए से लिया और वहां पर रुक गया। तभी पुलिस को उसकी लोकेशन मिल गई। पुलिस बिना देर किए करौली से कैला देवी पहुंची और रात में दीपक लॉज के कमरे में रह रहे आरोपी दीपक अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया।

सिटी कोतवाली थाना प्रभारी सुनील खेमरिया ने बताया कि व्यवसायी दीपक शहर के कई लोगों को करीब दो करोड़ रुपए का चूना लगाकर गायब हो गया। जिसकी लोकेशन करौली के कैला देवी मंदिर के पास मिली। जहां पुलिस टीम ने रात ढाई से तीन बजे के लगभग उसे गिरफ्तार कर शिवपुरी लाया गया है।