हजारों पेड़ों की बलि देकर 200 बीघा वनभूमि में खेती, वनविभाग की कार्यवाही पर सवालिया निशान- Sivpuri News

शिवपुरी। वनों की सुरक्षा के जिम्मेदार ही जब वनों के विनाश में भागीदारी करने लगें तो वन विभाग की भूमिका पर सवाल उठना लाजमी हैं, दबंगों ने विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की आंखों के सामने ही लगभग 200 बीघा के जंगल के पेड़ों को काटकर न केवल फसल करना प्रारंभ कर दिया अपितु कई वर्षों से बदस्तूर खेती कर आमदनी कर रहे हैं, ऐसा नहीं है कि विभाग के तैनात अमले को इसकी भनक न हो, शेरगढ़ एवं भीमपुर के ग्रामीणों ने कलेक्ट्रेट जनसुनवाई के साथ ही डीएफओ से शिकायत कर कार्यवाही की मांग की है।

जानकारी के अनुसार नरवर क्षेत्र से आये ग्रामीणों ने जिला मुख्यालय पर जनसुनवाई में कलेक्टर से गुहार लगाई है कि गांव के दबंगो ने 200 बीघा वन भूमि पर कब्जा कर मूंगफली की फसल की जा रही है, शिकायतकर्ता ग्रमीणों ने चर्चा के दौरान बताया है कि नरवर वन परिक्षेत्र के ग्राम शेरगढ़ स्थित नीम वाली पहाडिया के जंगल एवं चिताई के जंगल में पेडों को काटकर वन भूमि पर जण्डेल गुर्जर, जीतू गुर्जर, दीवान गुर्जर एवं नन्दू गुर्जर फसल कर रहे हैं, उक्त वन भूमि पर कब्जा किया गया है वहां गांव के मवेशी चरने जाते है जिसे चारों ओर से तार फेसिंग कर रास्ता बंद कर दिया है।

ग्रामीणों ने इसके विषय में वन परिक्षेत्राधिकारी इंदर सिंह धाकड़ और डिप्टी रेंजर सतीश मौर्य से शिकायत की तो उन्होंने कोई कार्यवाही नहीं की, परंतु कार्यवाही न होने से नाराज ग्रामीणों ने जिलाधीश शिवपुरी के साथ ही वन मण्डलाधिकारी से शिकायत कर कार्यवाही की मांग की है।

जब इस मामले के संबंध में वनपाल सतीश मौर्य से पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने ग्रामीणों पर आरोप लगाते हुए कहा कि जमीन पर कब्जा यही लोग कर रहे हैं, हमारे विभाग द्वारा इनके ट्रैक्टर को जब्त किया गया था जिसके कारण उक्त लोग झूठी शिकायत कर हम पर दबाव बनाने का प्रयास कर रहे हैं परंतु 200 बीघा वन भूमि पर कब्जा किया जाने की बात को स्वीकारते हुए बताया कि कई लोगों के खिलाफ वन अपराध पंजीबद्ध कर लिया गया है। जब पी ओ आर की कॉपी के संबंध में हमारे संवाददाता ने काॅपी उपलब्ध कराने की बात कही तो उन्होने बहाने बनाकर देने में असमर्थमता जाहिर की, आज तक जंगल काटकर खेती करने वालों पर कार्यवाही न किया विभाग की मंशा पर संदेह को जन्म देता है।