Shivpuri News- किस्सा नगर सरकार की कुर्सी का: कांग्रेस के सीन में छुपा है क्लाइमेक्स, कुर्सी किसकी दुबे जी की या व्यास जी की

Ex-Rey @Lalit Mudgal-शिवपुरी। नगर सरकारी की कुर्सी के मतदान की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी हैं। शुरू से ही यह स्क्रिप्ट सुनी और देखी जा रही थी कि शिवपुरी विधायक और मंत्री अपनी पसंद का नगर पालिका अध्यक्ष बनाना चाहती है,और उनकी पहली पसंद दीप्ति भानु दुबे है,स्क्रिप्ट आगे बडी दिप्ती दुबे चुनाव जीती और अध्यक्ष की सबसे बडी दावेदारों में एक हैं।

इस स्क्रिप्ट को आगे बढ़ाया गया मंत्री राजे ने मोहना में भाजपा पार्षदों से बातचीत की,उसके बाद भाजपा के एक दर्जन नवनिर्वाचित पार्षदों की गुजरात यात्रा सोशल पर वायरल होने लगी ,पिछले 2 माह से चलने वाली नगर सरकार की कुर्सी के किस्से का आइए एक्सरे करते है।

बताया जा रहा हैं कि लगभग 15 पार्षद अभी गुजरात का विकास माॅडल देख रहे है,आधा दर्जन पार्षद दिप्ती भानू दुबे के समर्थन में वोट करने को तैयार है और नगर सरकार की कुर्सी के चुनाव के दिन भाजपा की ओर से दीप्ति भानू दुबे चुनाव जीत जाए और अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्जा कर ले। यह स्क्रिप्ट पूरा शहर सून रहा है।

लेकिन इसी नगर सरकारी की इस पिक्चर की दूसरी स्क्रिप्ट देखने को नहीं मिल रही हैं केवल सुनने को मिल रही हैं। भाजपा में एक राय न होने के कारण ही चुने हुए पार्षदों को गुजरात का विकास मॉडल देखने की यात्रा का रास्ता निकाला गया है। नगर सरकार की कुर्सी के लिए सरोज रामजी व्यास का मन भी मचल रहा है,यह भाजपा को दूसरा धडा हैं जो
अध्यक्ष के लिए दमदारी से दम भर रहा हैं, यह गुट केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर का है। हालांकि तोमर ग्वालियर और मुरैना में अपनी लाज नहीं बचा पाए लेकिन शिवपुरी में उनके समर्थक दमदारी दिखा रहे है।

इस फिल्म का क्लाइमेक्स कांग्रेस के हाथ में हैं,। कांग्रेस के 10 पार्षद निर्वाचित हुए हैं। शनिवार को कांग्रेस संगठन के पदाधिकारियों की भी बैठक हुई, लेकिन फिलहाल कोई सहमति नहीं बन पाई,लेकिन कुछ कांग्रेसियों को कहना है की संख्या बल कम है तो क्या हुआ भाजपा के खुला मैदान नही छोड सकते है। वही इस नगर सरकार की इस फिल्म में आधा दर्जन कांग्रेस के पार्षदों की यात्रा पर जाने की खबर आ रही हैं इस यात्रा की जिम्मेदारी किसी ने नहीं ली है।

कांग्रेस और निर्दलीय पार्षद कहा वोट करेंगे यह क्लाइमेक्स का सनी अर्थात रिजल्ट जब आएगा जब ही समझ आऐगा। भाजपा का दूसरा धडे की बॉडी लैंग्वेज पॉजिटिव हैं ऐसा लगता है कि शहर में उन्होने अपनी ताकत तो मजबूत कर ली है साथ में भाजपा की गुजरात यात्रा में भी सेंध लगा ली है,कुल मिलाकर लड़ने की तैयारी पूरी हैं।

अब संगठन को तय करना है कि वह अपना मेडेट किसको देता हैं। अगर भाजपा संगठन ने सरोज राम जी व्यास को मेडेट नही दिया तो तय है कि पाटी्र में बगावत हो सकती हैं और शिवपुरी विधायक प्रदेश सरकार की मंत्री यशोधरा राजे की बिना एनओसी के मेंडेट संगठन देगा नहीं उनकी पहली पसंद दीप्ति भानू दुबे है। अब यह तो तय है कि नगर सरकार का युद्ध भाजपा में आपस मे होगा,लेकिन क्लाइमेक्स कांग्रेस तय करेगी कि नगर सरकार की कुर्सी पर दुबेजी की होगी या व्यास जी की।