कुल्हाड़ी से काटकर की गई मनीराम की हत्या,5 लाख रूपए का था मामला,7 दिन हुई अंत्येष्टि- Bairad News

बैराड। जिले के बैराड़ थाना अंतर्गत आने वाले ग्राम पटेवरी गांव में निवास करने वाले मनीराम की हत्या 5 लाख रूपए के लेनदेन को की गई है। मनीराम के दोस्त रघुवीर ने उसकी हत्या कुल्हाड़ी से काटकर की,मनीराम को वह पैसे दिलवाने के बहाने डबरा लेकर गया था वही उसकी हत्या कर दी गई।

पुलिस ने हत्यारोपी को जौरा से गिरफ्तार कर लिया है। मनीराम की हत्या को सात दिन बीतने के बाद भी उसके शव का अंतिम संस्कार नहीं हुआ। तीन दिन से ग्रामीण उसके शव को रखकर चक्काजाम कर रहे थे। काफी समझाइश के बाद शनिवार को उसकी अंतेष्टि की गई। तब तक शव पूरी तरह से सड़ चुका था।

उल्लेखनीय है कि गत 23 जुलाई से पटेवरी गांव निवासी 55 वर्षीय मनीराम धाकड़ अचानक गायब हो गया था। 24 जुलाई की अल सुबह डबरा लिंक रोड पर पुलिस को किसी अज्ञात व्यक्ति की लाश पड़ी मिली। डबरा पुलिस मृतक की शिनाख्त करती रही लेकिन कहीं कोई सुराग नहीं लगा। मनीराम कई घर पर बिना बताए रिश्तेदारों के चला जाता था इसलिए स्वजन ने भी खबर नहीं ली। काफी दिन होने पर 28 जुलाई स्वजन ने गुमशुदगी दर्ज कराई।

इसके बाद शिनाख्त हुई कि डबरा में मिली लाश मनीराम की थी। जब मनीराम की हत्या की खबर गांव में फैली तो गांव के ही कुछ लोगों ने मनीराम के स्वजनों को बताया कि दादा मनीरामद्ध को तो 23 जुलाई के रात 8 बजे गांव के उनके दोस्त रघुवीर धाकड़ के साथ देखा गया था। इस जानकारी के बाद जब रघुवीर धाकड़ की तलाश की गई तो वह भी गांव से गायब मिला।

अंततः जब पुलिस ने रघुवीर के स्वजनों सहित अन्य प्रयासों के माध्यम से रघुवीर की तलाश कर उसे 29 जुलाई की देर रात जौरा से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद रघुवीर धाकड़ ने मनीराम की हत्या की बात स्वीकार कर ली।


मनीराम ने रघुवीर को सिंहनिवास के किसी व्यक्ति से पांच लाख रुपये उधार दिलवाए थे। 23 जुलाई को रघुवीर उन्हें डबरा से पैसे दिलवाने के बहाने अपनी कार में बिठा कर ले गया और कुल्हाड़ी मारकर उसकी हत्या कर दी