निष्कासित निर्दलीय पार्षद को अध्यक्ष बना रही हैं भाजपा,6 साल के लिए निकाला था- Pohri News

पोहरी। राजनीति कब किस ओर करवट ले ले किसी को नहीं पता,फायदे के लिए सभी नियम तोड़ दिए जाते है। ऐसी ही राजनीति से जुड़ी खबरें पोहरी से आ रही हैं कि नगर सत्ता के लिए भाजपा ने समझौता करते हुए पार्टी से निष्कासित हुए निर्दलीय रूप से निर्वाचित पार्षद को पोहरी नगर परिषद की अध्यक्ष की कुर्सी पर विराजमान करने की तैयारी कर रही है।

जैसा कि विदित है कि पोहरी में निकाय चुनाव में भाजपा को 4 सीटें मिली हैं। जिले में भाजपा का खराब प्रदर्शन पोहरी में ही रहा है,लेकिन पोहरी विधायक और राज्यमंत्री सुरेश राठखेडा नगर की सत्ता पर अपना समर्थक पराजित करने में सफल होंगें। पार्टी के चार पार्षदों के जीतने के बाद भी मंत्री महोदय सीएम के आगे पोहरी के 11 पार्षदों की परेड कराने में सफल रहे,सुना है कि अब यह सभी पार्षदों का गोवा में मटर पनीर का भोग लगाया जा रहा है।

स्थानीय विधायक और राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा ने सुरेश राठखेड़ा के साथ पोहरी से भाजपा से निर्वाचित पार्षद कविता आदिवासी, तराना खान, उर्मिला टिल्लू देशमुख व रश्मि नेपाल सिंह वर्मा के साथ निर्दलिय राजकुमारी धाकड, अमित शर्मा,फूलवती शाक्य, पिस्ता बाई यादव, रामश्री जाटव और धीरेंद्र वर्मा शामिल थे।

वहीं कांग्रेस के विधानसभा प्रवक्ता संजीव शर्मा ने भाजपा का दामन थाम लिया और उनकी पत्नी कृष्ण लता संजीव शर्मा भी मुख्यमंत्री से मिलीं। मुख्यमंत्री ने सभी को शुभकामनाएं दी। इसी के साथ पोहरी में नगर परिषद का अध्यक्ष भाजपा का बनना तय हो गया है।

लेकिन इस पूरे वाक्य में सबसे बड़ी खबर यह निकल कर सामने आई हैं। भाजपा से बागी होकर वार्ड क्रमांक 10 से राजकुमारी शैलेन्द्र धाकड मंडल अध्यक्ष महिला मोर्चा ने निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ा,इस कारण भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने दिनांक 06.07.20 को पत्र क्रमांक 1300-22.-33 से 6 साल के लिए राजकुमारी धाकड को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से तक निष्कासित कर दिया।

वार्ड क्रमांक 10 से निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ी राजकुमारी शैलेन्द्र धाकड़ चुनाव जीत गई,लेकिन सत्ता पाने के लिए पार्टी ने अध्यक्ष पद का गणित बनाने हुए पार्टी से निष्कासित राजकुमारी धाकड को अध्यक्ष बनाने की तैयारी कर ली हैं। शिवपुरी के पार्टी के जुड़े पदाधिकारियों का दबी जुबान में कहना है कि पार्टी में निष्कासित व्यक्ति की वापसी तो पार्टी वापस तो करा सकती है लेकिन ऐसे निर्दलीय को पार्टी इतने बड़े पद का पेमेंट नहीं देती हैं अब पोहरी में ऐसा क्यों हो रहा है यह तो पता नहीं है।

सूत्रों का कहना है कि पोहरी में नगर परिषद का अध्यक्ष बनना तय है और साथ में यह भी लगभग फायनल है कि अध्यक्ष के लिए भाजपा निर्दलीय के रूप में जीत कर आई राजकुमारी शैलेन्द्र धाकड को ही अपना उम्मीदवार बना सकती है।

पोहरी के इस निर्णय से पार्टी के अंदर ही अंदर अब सवाल उठने लगे है कि जब भाजपा को जोड तोड कर अध्यक्ष बनाना ही था तो निर्दलीय को पार्टी मेंडेट जारी कर रही हैं जब पोहरी से 4 पार्षद भाजपा से जीतकर आए हैं। ऐसी परंपरा जीते हुए प्रत्याशियों का मनोबल तोड़ने जैसी होगी और सुशासन और नियमों के लिए पहचानी वाली भाजपा की छवि भी खराब होगी।

इनका कहना हैं
आप कह रहे हो ऐसा,अगर ऐसा होता है तो यह पार्टी का निर्णय हो सकता हैं।
राजू बाथम जिलाध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी शिवपुरी