एक तरफ चुनाव और दूसरी तरफ महिला बाल विकास के जिम्मेदार पदाधिकारी छुट्टी पर- Shivpuri News

शिवपुरी। गौरतलब है कि त्रिस्तरीय पंचायत व नगरीय निकाय चुनाव के चलते प्रशासन ने सभी शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों के अवकाश पर न केवल रोक लगा दी थी, बल्कि जिनकी छुट्टियां मंजूर हो गईं थीं, उन्हें भी निरस्त कर दिया था। ऐसे में महिला बाल विकास विभाग के महत्वपूर्ण पदों पर बैठे जिम्मेदारों की कुर्सी लंबे समय से खाली होने के साथ ही उनकी अनुपस्थिति में अधीनस्थ किसी तरह कार्यालय का संचालन कर रहे हैं। विभाग प्रमुख से या प्रशासन से उनकी इतनी अच्छी सेटिंग है कि चुनाव के दौरान उन्हें न तो कोई तलब कर रहा और न ही उन्हें निर्वाचन में किसी तरह की कोई जिम्मेदारी दी गई।

शहर के हाथीखाना क्षेत्र में स्थित बाल संरक्षण विभाग कार्यालय में सोमवार की दोपहर 12 बजे जब जाकर देखा तो वहां लिपिक महिलाकर्मी कल्पना रायजादा अकेली बैठी थीं। जब उनसे पूछा कि बाल संरक्षण विभाग के मुखिया आकाश अग्रवाल कहां हैं, तो कल्पना ने कहा कि वे पिछले एक माह से अवकाश पर हैं, शायद उनका स्वास्थ्य गड़बड़ है। साहब कब तक वापस आएंगे?, इसकी जानकारी भी उक्त महिला कर्मचारी को नहीं है।

इसके अलावा महिला बाल विकास विभाग में शिवपुरी ग्रामीण का प्रभार देखने वाली सीडीपीओ मंजू दुबे भी लंबे समय से अपनी कुर्सी से नदारद हैं। उनका तो विभाग वालों को यह भी पता नहीं है कि वे अवकाश पर हैं या फिर किसी महत्वपूर्ण कार्य से नदारद हैं। लेकिन उनका वेतन नियमित निकल रहा है।

एक का स्वास्थ्य खराब, दूसरी अटैच
बाल संरक्षण अधिकारी का स्वास्थ्य खराब होने की वजह से वो अवकाश पर हैं। वन स्टॉप सेंटर की प्रभारी बिना बताए गायब हैं, जबकि सीडीपीओ दूसरी जगह अटैच हैं।
देवेंद्र सुंदरियाल, डीपीओ महिला बाल विकास विभाग