Shivpuri News- शक्तिशाली सोम:अवैध शराब का शोरूम तो नहीं हटा, रेजंर को ही हटा दिया, प्रोटेक्शन एक्ट का कमाल

शेखर यादव शिवपुरी। शिवपुरी समाचार डॉट कॉम ने एक खबर का प्रकाशन किया था। शराब की सोम कंपनी के लिए अघोषित प्रोटेक्शन एक्ट लागू, राम राज्य में शराब की जीत है नियम नशे में और अधिकारी मस्त इस खबर को वन विभाग ने सिद्ध कर दिया। इस प्रोटेक्शन एक्ट के तहत वन विभाग ने अपनी सीमा में रखी शराब के शोरूम तो नहीं हटाया,लेकिन प्रोटेक्शन एक्ट के तहत अपने ही रेंजर को हटा दिया।

पहले समझे क्या हैं मामला
गुना बाईपास से लेकर चिंकारा तक वनभूमि हैं,इस वन भूमि पर भोपाल की सोम कंपनी ने अपना शराब का शोरूम खोल लिया। अगर भारत सरकार के नियमों को समझें तो वन भूमि पर किसी भी प्रकार की कमर्शियल एक्टिविटी नहीं कर सकते,यहां तक अनाधिकृत प्रवेश भी वर्जित हैं,लेकिन यहां हाइवे के किनारे स्थित वन भूमि पर शराब का शोरूम तान दिया। जब मीडिया ने यह मामला उठाया तो रेंजर गोपाल जाटव ने जमीन खाली करने का नोटिस दे दिया,लेकिन माना जा रहा है कि यह नोटिस सिर्फ कागजी खानापूर्ति करने को हैं शराब की दुकान को हटाने के लिए। नोटिस की समय अवधि 03 दिन बताई जा रही हैं वह भी निकल गई।

शिवपुरी समाचार ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया था,इस मामले में लगातार सोम कंपनी पर शिवपुरी रेजंर गोपाल जाटव कार्रवाई का दबाव बना रहे थे नोटिस भी जारी कर रहे थे। बताया जा रहा था कि स्थिती ऐसी बन गई थी की सोम कंपनी को अपनी शराब की दुकान को हटाने के लिए बाध्य होना पड रहा था लेकिन सोम कंपनी ने अपनी ताकत दिखाई और रेजंर गोपाल जाटव को ही शिवपुरी रेंज से हटवा दिया। इस कार्यवाही से अब वन विभाग मे हड़कंप है और निचले स्तर तक के अधिकारियों को मनोबल टूट रहा है।

रेंजर गोपाल जाटव शिवपुरी वनपरिक्षेत्र के रेंज अधिकारी थे और साथ में कोलारस वन परिक्षेत्र रेंज का भी अतिरिक्त प्रभार था,अब बताया जा रहा है कि गोपाल जाटव से दोनों रेंजो को छिन लिया गया हैं शिवपुरी रेंज का अतिरिक्त प्रभार पोहरी के वन परिक्षेत्र अधिकारी केपीएस धाकड़ ओर कोलारस वन परिक्षेत्र का अतिरिक्त प्रभार पिछोर वन परिक्षेत्र अधिकारी अनुराग तिवारी को दिया गया हैं। रेजंर गोपाल जाटव पर वर्तमान समय में किसी भी रेंज का प्रभार नही हैं कुल मिलाकर सोम कंपनी पर कार्रवाई करने का मन बनाने की सजा रेंजर को लूप लाइन में जाने की मिली है।

वहीं इस मामले में एसडीओ मनोज कुमार सिंह का कहना था कि रेंजर गोपाल जाटव से शिवपुरी का प्रभार हटा लिया है,उनसे पूछा गया कि ऐसे क्या आरोप थे या क्या अनिमितताए थी की गोपाल जाटव को हटाया गया एसडीओ इस बात का सटीक जवाब नही दे सके,वही गोपाल जाटव रेंज विहीन अपने घर बैठे है तो जिले में स्थिति यह है कि एक एक रेंजर पर दो या तीन रेंज के प्रभार है,फिलहाल अब यह देखना है कि वन विभाग सोम कंपनी से अपनी जमीन मुक्त करा पाती हैं या नही। पाठको को हम जानकारी के लिए बता दे कि मप्र की शराब निर्माण के क्षेत्र में मप्र की दिग्गज कंपनी SOM DISTILLERY हैं अब यह अन्य शहरो मे शराब की दुकानो के ठेके भी लेने लगी हैं।

इस कारण अड रही है सोम कंपनी
गुना बाईपास पर स्थित वन भूमि पर शराब कंपनी सोम ने अपना शोरूम खोल लिया हैं नेशनल हाइवे के किनारे वन भूमि पर अतिक्रमण कर रखा हैं। कंपनी अगर किसी प्राइवेट व्यक्ति की दुकान लेती है तो लगभग 1 लाख किराया अदा करना होता इस कारण वन भूमि कर कब्जा कर दुकान खोल ली,अब केवल प्रशासन को रिश्वत रूपी टुकड़े फेंके जाए किराया तो कंपनी का बचेगा। इस कारण ही नोटिस देने वाले रेंजर को कंपनी ने अपनी ताकत का प्रदर्शन कर रेज से ही हटवा दिया। इससे प्रतीत होता है कि मप्र सरकार ने दुकान की संख्या अधिक कर दी और अघोषित रूप से प्रोटेक्शन एक्ट के तहत ताकत भी प्रदान कर दी।