चाट के ठेले पर 1 लाख रुपए की रिश्वत खाते रोजगार सहायक ​लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथों पकडा

करैरा
। खबर रिश्वत से भरी हुई है कि चाट पकौड़ी के ठेले पर 1 लाख रुपए की रिश्वत खाते ग्राम पंचायत सिलरा का रोजगार सहायक लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथो पकड लिया। रिश्वत लेने के बाद जैसे ही रोजगार सहायक को लोकायुक्त पुलिस ने पकडा तो वह घबरा गया और रिश्वत में लिए गए 2-2 हजार के नोट जमीन पर गिर पडे। सचिव सरपंच से पंचायत में हुए 26 लाख के निर्माण कार्यों के भुगतान के एवज में 2 लाख 17 हजार रुपए की रिश्वत की मांग कर रहा था।

जानकारी मिल रही है कि जनपद नरवर अंतर्गत आने वाली सिलरा ग्राम पंचायत के सरपंच आमिर खान ने अपनी पंचायत में रपटा ओर गौशाला का निर्माण कराया था इस निर्माण का भुगतान 26 लाख 96 का भुगतान 17 अप्रैल को हो गया था इसी निर्माण कार्यों का मजदूरों का भुगतान के मस्टररोल के ऑनलाइन होने थे उनका बिल था लगभग 6 लाख रूपए। इन मजदूरों के भुगतान को ऑनलाइन करने से पूर्व पंचायत के रोजगार सहायक  नरेन्द्र सिंह सोलंकी इस पूरी रकम जो की लगभग 32 लाख होती हैं इसका 7 प्रतिशत से रिश्वत मांग रहा था और स्वयं ने इस रकम को जोडकर 2 लाख 17 हजार रुपए की रिश्वत की डिमांड की।

सरपंच आमिर खान के बेटे आशीम खान ने 6 मई को ग्वालियर लोकायुक्त को पूरा मामला बताते हुए आवेदन दिया। ग्वालियर लोकायुक्त पुलिस ने आवेदन लेते हुए आशीम को वायस रिकार्डर दिया और बातचीत रिकार्ड करने को कहा। आशाीम ने 9 मई को सहायक सचिव नरेंद्र सिंह सोलंकी से भुगतान के संबंध में बातचीत की और इस रिश्वत की रकम को सेटलमेंट करने को कहा बातचीत 2 लाख रुपए की रिश्वत में तय हुई वह भी दो किश्त एक एक लाख रुपए के रूप में।

इस वायस रिकार्डिंग के आधार पर लोकायुक्त पुलिस ने ग्राम सिलरा के रोजगार सहायक नरेन्द्र सिंह सोलंकी के खिलाफ धारा 7 1988 संशोधन अधिनियम 2018 के तहत एफआईआर दर्ज की गई और इस रिश्वत खोर सहायक सेक्रेटरी के रंगे हाथ पकडने का जाल बिछाया गया।

बताया जा रहा हैं कि आज रोजगार सहायक ने आज लगभग 1 बजे सरपंच के बेटे आशाीम खान को तयशुदा रिश्वत 1 लाख रुपए लेने करैरा बुलाया था। जहां पर पहले से ही लोकायुक्त टीम के सदस्य सादी वर्दी में मौजूद थे। जैसे ही सचिव ने रिश्वत के रुपए लिए सादी वर्दी में मौजूद लोकायुक्त की टीम ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया। रिश्वत लेते पकड़ाने पर सचिव नरेन्द्र सिंह इस कदर घबरा गया कि उसके हाथ से नोट छूट कर जमीन पर बिखर गए।

कार्यवाही करने वाली टीम में योगेश कुचरानिया ,कविंद्र सिंह चौहान, राघवेंद्र सिंह तोमर, भरत सिंह किरार, श्रीमती अंजली शर्मा आरक्षक ,हेमंत शर्मा,सुरेंद्र सेविल ,देवेंद्र पवैया ,विनोद शाक्य, अंकित शर्मा ,अमर सिंह गिल सहित पूरी टीम की महत्वपूर्ण भूमिका रही।